MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 8 The Second Chance

Enhance your subject knowledge with MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 8 The Second Chance Question and Answers and learn all the underlying concepts easily. Make sure to solve the MP Board Solutions for Class 9th English PDF on a day to day basis and score well in your exams. MP Board Class 9th English Chapter 8 The Second Chance are given after enormous research by people having high subject knowledge. You can rely on them and prepare any topic of English as per your convenience easily.

MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 8 The Second Chance

Students looking for English Concepts can find them all in one place from our MP Board Class 9th English Solutions. Simply click on the links available to prepare the corresponding topics of English easily. MP Board Solutions for Class 9th English Chapter 8 The Second Chance Question and Answers are given to you after ample research and as per the latest edition textbooks. Clarify all your queries and solve different questions to be familiar with the kind of questions appearing in the exam. Thus, you can increase your speed and accuracy in the final exam.

The Second Chance Textual Exercises

Word Power

(a) Match the following words in column (A) with their meaning in column (B)
(सुमेलित कीजिए।)
MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 8 The Second Chance 1
Answer:
(1) → (c)
(2) → (d)
(3) → (a)
(4) → (f)
(5) → (b)
(6) → (e)

(b) Select the word from the words given in the box having almost the same meaning of those given below
(समानार्थक शब्द छाँटिए।)
say, enough, shout, together, closely, throw, extreme suffering, loud sound, testament.

  1. ample – enough
  2. lob – throw
  3. mumble – say
  4. torment – extreme suffering
  5. huddle – to gather closely
  6. shrill – loud sound
  7. testimony – testament
  8. thud – shout

How Much Have I Understood?

(A) Answer these questions
(निम्न प्रश्नों के उत्तर दीजिए)

Question 1.
Who was Baljit?
(हु वास् बलजीत?)
बलजीत कौन था?
Answer:
Baljit was the coach of the hockey team.
(बलजीत वॉज़ द कोच ऑफ द हॉकी टीम।)
बलजीत हॉकी टीम का कोच था।

Question 2.
What was the reaction of Baljit when Sudhir lost a sure goal?
(व्हॉट वॉज़ द रिएक्शन ऑफ बलजीत व्हेन सुधीर लॉस्ट अ श्योर गोल?)
जब सुधीर ने एक निश्चित गोल खो दिया तो बलजीत की प्रतिक्रिया क्या थी?
Answer:
Baljit ordered Sudhir to sit out the rest of the game when he lost a sure goal.
(बलजीत ऑर्डर्ड सुधीर टू सिट आउट द रेस्ट ऑफ द गेम केन ही लास्ट अ श्योर गोल।)
सुधीर के एक निश्चित गोल खोने पर बलजीत ने उसे खेल के शेष भाग में बाहर बैठने का आदेश दिया।

Question 3.
Why did Sudhir grin?
(व्हाय डिड सुधीर ग्रिन?)
सुधीर खुलकर क्यों मुस्कुराया?
Answer:
Sudhir grinned because he had scored a third goal.
(सुधीर ग्रिन्ड बिकॉज़ ही हैड स्कोर्ड अ थर्ड गोल।)
सुधीर खुलकर मुस्कुराया क्योंकि उसने तीसरा गोल किया था।)

Question 4.
Why did Sudhir feel himself the happiest person?
(व्हाय डिड सुधीर फील हिमसेल्फ द हैप्पीएस्ट पर्सन?)
सुधीर ने खुद को सबसे सुखी व्यक्ति क्यों महसूस किया?
Answer:
Sudhir felt himself the happiest person because he was back on the field, where he belonged.
(सुधीर फेल्ट हिमसेल्फ द हैप्पीएस्ट पर्सन बिकॉज़ ही वॉज़ बैक ऑन द फील्ड, व्हेअर ही बिलाँग्ड)
सुधीर ने खुद को सबसे सुखी व्यक्ति महसूस किया क्योंकि वह मैदान में वापस आ गया था, जो उसका स्थान था।

Question 5.
Why did Sudhir not score a winning goal?
(व्हाय डिड सुधीर नॉट स्कोर अ विनिंग गोल?)
सुधीर ने जीतने वाला गोल क्यों नहीं किया?
Answer:
Sudhir did not score a winning goal because he had missed a sitter.
(सुधीर डिड नॉट स्कोर अ विनिंग गोल बिकॉज़ ही हैड मिस्ड अ सिटर।)
सुधीर एक आसान हिट नहीं मार सका था इसीलिए उसने एक जीतने वाला गोल खो दिया था।

Question 6.
What was the reaction of Sudhir’s teammates after the match?
(व्हॉट वॉज़ द रिएक्शन ऑफ सुधीरस् टीम मेट्स आफ्टर द मैच?)
सुधीर के साथी खिलाड़ियों की खेल के बाद क्या प्रतिक्रिया थी?
Answer:
Sudhir’s teammates got so angry that they could have gladly strangled him.
सुधीर्स टीम मेट्स गॉट सो एंग्री दैट दे कुड हैव ग्लैड्ली स्ट्रगल्ड हिम।)
सुधीर के साथी खिलाड़ी उससे इतना नाराज थे कि वे उसका गला घोंट सकते थे।

Question 7.
Sudhir missed a sitter. How?
(सुधीर मिस्ड अ सिटर। हाउ?)
सुधीर गोल करने का एक आसान मौका चूक गया। कैसे?
Answer:
Sudhir decided to use a reverse flick. He tried to show off. The result was a missed sitter.
(सुधीर डिसाइडेड टू यूज अ रिवर्स फ्लिक। ही ट्राइड टू शो ऑफ। द रिजल्ट वॉज़ अ मिस्ड सिटर।)
सुधीर ने रिवर्स फ्लिक का प्रयोग किया। उसने शान दिखाने के लिए एक आसान काम को मुश्किल में बदल दिया जिसका परिणाम था एक आसान मौके का हाथ से निकलना।

Question 8.
What did Baljit do to lift up the morale of the team?
(व्हॉट डिड बलजीत डू टू लिफ्ट अप द मोराल ऑफ द टीम?)
बलजीत ने टीम का मनोबल बढ़ाने के लिए क्या किया?
Answer:
Baljit said, “Well played, boys.”
(बलजीत सेड, “वेल प्लेड बॉयज।)
बलजीत ने कहा, “शाबाश बच्चों, बहुत अच्छा खेले।”

Question 9.
What advice did Baljit give to Sudhir at the beginning of the second-half of play?
(व्हॉट एडवाइज़ डिड बलजीत गिव टू सुधीर एट द बिगनिंग ऑफ द सेकण्ड-हॉफ ऑफ प्ले?)
खेल के उत्तरार्द्ध की शुरुआत में बलजीत ने सुधीर को क्या सलाह दी?
Answer:
Baljit said to him that he was playing well, and he should stop wasting his time and take a shot at the goal. Finally the score board was the only testimony to his talent.
(बलजीत सेड टू हिम दैट ही वॉज़ प्लेइंग वेल, एण्ड ही शुड स्टॉप वेस्टिंग हिज टाइम एण्ड टेक अ शॉट एट द गोल। फाइनली द स्कोर बोर्ड वॉज़ द ओनली टेस्टिमनी ट्र हिज़ टेलेन्ट।)
बलजीत ने सलाह दी कि वह अच्छा खेल रहा है और वह समय बर्बाद न करे और गोल की ओर शॉट लगाए। उसकी प्रतिभा का प्रमाण स्कोर बोर्ड ही है।

Question 10.
In which position did Baljit allow Sudhir to play?
(इन व्हिच पोजीशन डिड बलजीत अलाउ सुधीर टू प्ले?) बलजीत ने सुधीर को किस जगह पर खेलने की अनुमति दी?
Answer:
Baljit allowed Sudhir to play in right in position.
(बलजीत अलाउड सुधीर टू प्ले इन राइट-इन पोजीशन।)
बलजीत ने सुधीर को राइट-इन की जगह पर खेलने की अनुमति दी।

(B) Who said to whom
[किसने किससे कहा।

Question 1.
“Why have you not been attending practice?”
(“व्हाय हैव यू नॉट बीन अटैण्डिंग प्रैक्टिस?”)
Answer:
Baljit to Sudhir.
बलजीत ने सुधीर से कहा।

Question 2.
“I didn’t play badly.”
(“आइ डिडन्ट प्ले बैडली।”)
Answer:
Sudhir to Baljit.
(सुधीर ने बलजीत से।)

Question 3.
“Hi, man, Nice to see you emerge from exile.”
(“हाय, मैन नाइस टू सी यू इमर्ज फ्रॉम एग्जाइल।”)
Answer:
Sudhir’s team mates to Sudhir.
सुधीर के साथी खिलाड़ियों ने सुधीर से।

Question 4.
“Isn’t that just an excuse for hiding after a disgraceful performance.”
(“इजन्ट दैट जस्ट एन एक्सक्यूज फॉर हाइडिंग ऑफ्टर अ डिसग्रेसफुल परफॉरमेन्स।”)
Answer:
Baljit to Sudhir.
(बलजीत ने सुधीर से।)

Question 5.
“Give it your best, boys.”
(गिव ईट योर बेस्ट बॉयज)
Answer:
Baljit to the boys of the team.
(टीम के लड़कों से।)

Language Practice

Write five sentences with the help of the schedule given in the Text Book.
[पाठ्यपुस्तक में दिए गए कार्यक्रम की मदद से पाँच वाक्य लिखिए।]
Answer:

  1. I had breakfast at 7.00 a.m. and went to school at 7.30 a.m.
  2. I attended extra class at 11.30 a.m. and returned home at 1.30 p.m.
  3. I went for tuition classes from 2.00 to 3.30 p.m. and played cricket with friends from 4.00 to 5.30 p.m.
  4. I had snacks from 5.30 to 6.30 p.m. and did homework from 6.30 to 8.30 p.m.
  5. I went to bed at 9.00 p.m.

Listening Time

(a) Teacher will read this passage and students will listen and tick the words given in the list.
(तालिका में दिए गए शब्दों को चिह्नित करो।)
Answer:
Students can do themselves with the help of their teacher.
[छात्र शिक्षक की मदद से स्वयं करें।

Speaking Time

Answer these questions.
(निम्न प्रश्नों के उत्तर दो।)

Question 1.
In which subject did the boys obtain the highest marks?
Answer:
The boys obtained the highest marks in English.

Question 2.
What are the highest marks obtained in English?
Answer:
80%.

Question 3.
Who have got the highest marks in Maths?
Answer:
Girls have got the highest marks in Maths.

Question 4.
How much have the boys obtained in Maths?
Answer:
50%.

Question 5.
What is the highest score gained by the girls in English?
Answer:
60%.

Writing Time

Write a paragraph with the help of clues given in the text book.
(पाठ्य-पुस्तक में दिए गए संकेतों की मदद से अनुच्छेद लिखो)

Limba Ram, the archer was born in 1972. He represented India in the Asia cup-Beijing in 1989. He won silver medal while the team won gold medal. He also took part in Bangkok Inter national Archery Championship and won two golds and one silver medal. He was declared the Best Archer of the meet. In 1990, he took part in 1st Federation Cup Archery Tournament at New Delhi and International Archery Meet at Beijing. In 1991, he won Arjuna award.

Things to do

Students will prepare a scrap book with brief information of the world famous footballers/cricketers/hockey players.
(विश्व प्रसिद्ध फुटबॉलरों,क्रिकेटरों व हॉकी खिलाड़ियों की एक स्क्रैप बुक बनायें।)
Answer:
Students can prepare the scrap book themselves.
(छात्र स्वयं करें।)

The Second Chance Difficult Word Meanings

crucial (क्रूशल)-extremely important अत्यधिक महत्वपूर्ण; covet (कंवेट)-to want something very much किसी भी वस्तु को पाने की तीव्र इच्छा करना; nightmare (नाइटमेयर)-a dream that is very frightening डरावना सपना; din (डिन)-to tell somebody something again and again in a forceful way कोई बात बार-बार किसी से कहना, कूट-कूट के भरना; sitter (सिटर)-an easy chance to score a goal गोल करने का आसान मौका; scoop (स्कूप)-lift something with a quick continuous movement जल्दी से किसी चीज़ को उठाना; slid (स्लिड)-to move easily over a smooth or wet surface किसी चिकनी या गीली सतह पर आसानी से गति करना; ample (ऐम्पल)-enough पर्याप्त; apparent (अपैरेन्ट)-easy to see or understand आसानी से दिखने या समझ आने वाला; reputation (रेपुटेशन) an opinion held about someone or something especially by people in general प्रतिष्ठा; bay (बे)-make deep loud sound गहरी जोर की आवाज करना; strangle (स्ट्रगल)-kill somebody by squeezing throat गला घोंटकर मार डालना; lack (लैक)-not have enough of something अभाव; hostility (होस्टिलिटी)-unfriendly behaviour, दुरमनी; contempt (कन्टेम्प्ट)-feeling that somebody is of no value and cannot be respected घृणा; teammate (टीममेट)-member of the team खेल के साथी; interrupt (इण्टरप्ट)-break the continuity खलल डालना; brooding (ब्रूडिंग)-sad and mysterious दुःखी, विचारमग्न; mumble (मम्बल)-to speak or say something in a quiet voice in a way that is not clear बड़बड़ाना; wimp (विम्प)-a person who is not strong, brave or confident कायर व्यक्ति; boo (बू)-high loud sound ऊँची जोर की आवाज; torment (टॉरमेन्ट)-extreme suffering तीव्र पीड़ा; determination (डेटर्मिनेशन)-quality that makes you continue trying to do something even in difficulty पक्का इरादा; venture (वेन्चर)-activity especially one that involves taking risks साहसिक कार्य; impervious (इम्पेरवियस)-not affected or influenced by something किसी भी चीज से प्रभावित न होना; chiwy (चिवी)-to try and make somebody hurry किसी से जल्दी करवाना; dribble (ड्रिबल)-to move the ball along with several short kiks, hit गोंद को छोटी-छोटी हिट से आगे बढ़ाना; hesitant (हेजिटेन्ट)-embarrassed हिचकिचाने वाला; finesse (फिनेसि)-great skill in dealing with situations, especially in a delicate way चतुश्ता से परिस्थितियों से निपटने का कौशल huddle (हडल)-to gather closely इकट्ठे होना; tore (टोर)-separate अलग होना; tardy (टार्डो)-slow to act or move धीमे काम करना; shrill (श्रिल)-high loud sound तीव्र जोर की ध्वनि; testimony (टैस्टिमनि)-testament प्रमाण; sizzling (सिजलिंग)-very exciting बहुत उत्तेजनापूर्ण; intercept (इंटरसेप्ट)-stopping somebody going from one place to another or from arriving किसी को आगे बढ़ने से रोकना; whack (वैक)-to hit somebody very hard किसी को जोर से मारना; whizz (विज़)-to move very quickly बहुत तेजी से चलना; thud (थड)-loud sound जोर की आवाज; flank (फ्लैंक)-the left or right side of the sport ground किसी मैदान का बाँया अथवा दाहिना हिस्सा; wooden (वुडन)-not showing enough movement पर्याप्त गति न दिखाना; grin (ग्रिन)-to smile widely लम्बी चौड़ी मुस्कान; manoeuvre (मेनोवर)-cause something to turn skillfully किसी चीज़ को कलात्मकता से मोड़ना।

The Second Chance Summary, Pronunciation & Translation

[1] A week ago, the unthinkable happened. Sudhir, who played left-out in the school’s hockey team, threw away a crucial goal. Not only did his team lose the match, it also lost the coveted inter-school trophy. For many days afterwards, Sudhir re-lived the nightmare.

Baljit, the tough, well respected coach had dinned it into their heads a good hockey player must convert the half-chances.

(अ वीक अगो, दी अन थिंकेबल हेप्पन्ड। सुधीर हू प्लेड लेफ्ट आउट इन द स्कूल हाकी टीम, थ्रिउ अवे अक्रूशियल गोल। नॉट ओनली डिड हिज़ टीम लूज द मैच, इट अल्सो लॉस्ट द कवेटेड इन्टर स्कूल ट्रॉफी। फोर मैनी डेज आफ्टर वर्ड्स, सुधीर रि-लिव्ड द नाइट मेयर।

बालजीत, द टफ, वैल रैस्पेक्टेड कोच हैड डाइन्ड इट इन टू देअर हैड्स; अ गुड हॉकी प्लेयर मस्ट कन्वर्ट द हाफ चान्सेस।) हिन्दी अनुवाद-एक सप्ताह पूर्व, कभी न सोची गई घटना घटी। सुधीर विद्यालय हॉकी टीम में लेफ्ट आउट खेला था, उसने एक अत्यन्त महत्वपूर्ण गोल खो दिया था। न केवल उसकी टीम मैच हार गई थी बल्कि उसने तीव्र वांछित इन्टर स्कूल ट्रॉफी भी खो दी थी। इस घटना के बहुत दिनों बाद भी सुधीर एक डरावने सपने में रहा।

बालजीत, सख्त, अति सम्मानित कोच ने खिलाड़ियों के मन मस्तिष्क में यह बात भर दी थी कि एक अच्छा खिलाड़ी अधूरे मौकों को भी पूर्व अवसर में बदल सकता है।

[2] Half-chance? Sudhir had missed a sitter. It was a perfect lob from Rajbir, the team’s back. Having slipped through the defence, the ball was in an ideal scoring position, not too angular. A gentle scoop by changing the body posture or a crack to the net from a better hitting position would have sealed the score.

(हाफ चांस? सुधीर हैड मिस्ड अ सिटर। इट वाज़ अ परफैक्ट लॉब फ्राम राजबीर, द टीम्स बैक। हैविंग स्लिप्ड धू द डिफेन्स, द बाल वाज़ इज़ इन एन आइडियल स्कोरिंग पोजिशन नाट टू एंग्यूलर। अ जेन्टल स्कूप बाय चेजिंग द बॉडी पोस्चर और ए क्रेक टु द नेट फ्राम अ बैटर हिटिंग पोजिशन वुड हैव सील्ड द स्कोर।)

हिन्दी अनुवाद :
अर्ध अवसर? सुधीर ने गोल करने का एक आसान मौका गँवा दिया था। वह राजवीर के लिये पूर्णतः ऊँची स्ट्राइक होती जो कि टीम में बैक पर खेल रहा था। रक्षण टीम से स्लिप होती हुई गेंद गोल करने की आदर्श स्थिति में थी। बहुत कोणीय नहीं थी। शरीर की स्थिति को थोड़ा बदलते हुए या मारक स्थिति को बेहतर बनाते हुए नेट की ओर मारने से गोल पक्का हो जाता।

[3] The goal keeper had charged early, leaving the goalpost not just undefended, but positively wide open and welcoming. In that single minute, the defence seemed to move almost in slow motion. Lazily, the seconds slid past giving Sudhir ample time to choose a scoring position. Then, for no apparent reason, he decided to use the reverse flick for which he had earned a sort of reputation. Part of it was the desire to show off. The other part was the challenge, the risk in raising the level of difficulty. Result : the ball hit the board from the outside. A sure goal was wasted or rather thrown away.

(द गोलकीपर हैड चार्ड अर्ली, लीविंग द गोलपोस्ट नॉट जस्ट अनडिफेन्डेड बट पॉज़िटिवली वाइड ओपन एण्ड वेलकमिंग। इन दैट सिंगल मिनट, द डिफेन्स सीम्ड टु मूव अलमोस्ट इन स्लो मोशन। लेझिली, द सेकण्ड्स स्लिड पास्ट गिविंग सुधीर एम्पल टाइम टु चूज अ स्कोरिंग पोज़िशन। देन, फोर नो अपैरेन्ट रीज़न, ही डिसाइडेड टु यूस द रिवर्स क्लिक फोर विच ही हैड अर्नड अ सार्ट ऑफ। रेप्यूटेशन। पार्ट ऑफ इट वाज़ द डिज़ायर टु शो ऑफ/द आदर पार्ट वाज़ द चेलेंज, द रिस्क इन रेजिंग द लेवल ऑफ डिफीकल्टी। रिज़ल्ट द बाल हिट द बोर्ड फ्राम द आउट साइड। अ स्युअर गोल वाज़ वेस्टेड और रादर थ्रोन अवे।)

हिन्दी अनवाद :
गोलकीपर पहले से ही तैयार हो चुका था, वह गोलपोस्ट को न केवल असुरक्षित छोड़ चुका बल्कि एकदम – खुला व गेंद का स्वागत करता हुआ दीख रहा था। उस एक क्षण में, रक्षात्मक टीम अत्यन्त धीमी गति पर थी। सुस्ती से सेकण्ड्स बीत रहे थे और सुधीर को एक स्कोरिंग पोजिशन चुनने के लिये काफी बल दे रहे थे। फिर बिना किसी स्पष्ट कारण से उसने रिवर्स क्लिक का उपयोग करने का निश्चय किया जिसके लिये उसने एक प्रकार की प्रतिष्ठा अर्जित की थी। उसका एक हिस्सा अपना प्रदर्शन था, और दूसरा हिस्सा एक चुनौती थी, कठिनाई के स्तर को उठाने का खतरा। परिणामः बाल ने बोर्ड को बाहर से टक्कर दी। एक निश्चित गोल व्यर्थ हो गया था यू कहें कि फेंक दिया गया था।

[4] The crowd bayed for his blood. His team mates would gladly have strangled him. An angry Baljit ordered him to sit out the rest of the game.

For a week Sudhir avoided the field. His teammates would gather for practice. But he lacked the courage to go in their midst and face the hostility and contempt that he felt he would be subjected to.

(द क्राउड बेयड फोर हिज़ ब्लड। हिज़ टीम मेट्स वुड ग्लेडली हैव स्ट्रेनगल्ड हिम। एन एंग्री बलजीत आडर्ड हिम टु सिट आउट द रेस्ट ऑफ हिज गेम।।

फोर ए वीक सुधीर अवाइडेड द फील्ड। हिज टीममेट्स वुड गेदर फोर प्रैक्टिस। बट ही लेक्ड द करेज टु गो इन देअर मिडस्ट एण्ड फेस द होस्टिलिटी एण्ड कन्टेम्प्ट दैट ही फैल्ट ही वुड बी सब्जेक्ट टु।)

हिन्दी अनुवाद :
भीड़ उसका खून माँगने लगी। उसकी टीम उसे खुशी से फाँसी पर चढ़ा देती। बलजीत से उसको शेष खेल के लिये बाहर बैठा दिया।

एक सप्ताह तक उसने खेल के मैदान से मुँह फेर लिया। उसके टीम के साथी प्रैक्टिस के लिए एकत्र होते। लेकिन उनके बीच जाकर शत्रुता घृणा का सामना करने का साहस उसमें नहीं था।

[5] “Sudhir, why have you not been attending practice?” a voice interrupted his brooding.
“I have not been well,” he mumbled.
“Isn’t that just an excuse for hiding after a disgraceful performance?”
It stung, as it was meant to.
“I did not play badly, “Sudhir said with some show of spirit. At that moment, he hated Baljit and his cool “oh, yes”,
Baljit said softly. “You missed a sitter. And, as if that was not bad enough, you have been behaving like a wimp ever since.

(“सुधीर, व्हाय हैव यू नॉट बीन अन्डिग प्रैक्टिस? अ वाईस इंटरप्टेड हिज, बूडिंग।
“आई हैव नॉट बीन वैल” ही-मम्बल्ड।
“इजन्ट दैट जस्ट एम एक्यूज़ फोर हाइडिंग आफ्टर अ डिसग्रेसफुल परफोर्मन्स?
इट स्टंग, एज इट वाज मीन्ट टु।
“आई डिड नॉट प्ले बेडली” सुधीर सेड विद सम शो ऑफ स्पिरिट। एट दैट मामैन्ट ही हैटेड बलजीत एण्ड हिज कूल “ओह यस”।
बलजीत सेड सॉफ्टली, “यू मिस्ड अ सिटर। एण्ड, एज़ इफ दैट वाज़ नाट बेड इनफ, यू हैव बीन बिहेविंग लाइक अ विम्प, एवर सिन्स।)

हिन्दी अनुवाद :
“सुधीर तुम प्रैक्टिस में उपस्थित क्यों नहीं हो रहे हो? एक आवाज ने उसका ध्यान भंग किया।
“मैं ठीक नहीं हूँ’ वह बुदबुदाया।
“क्या यह एक अपमानजनक प्रदर्शन को छिपाने के लिये एक बहाना नहीं है।”
यह बात चुभ गई, जैसा कि इरादा था।
“मैं बुरी तरह नहीं खेला,” सुधीर ने थोड़ा जोश को दिखाने के लिए कहा। उस पल उसे बलजीत और उसके ठण्डे स्वभाव से घृणा करने लगा। “अरे हाँ”।
बलजीत ने कोमलता से कहा, “तुम एक आसान हिट से चूक गए।” और, यह ज्यादा बुरी बात नहीं हो, फिर भी तुम एक कायर की तरह व्यवहार कर रहे हो।

[6] “If you don’t know how to face up to your mistakes you should not venture into a game, any game.”

“Did you hear how they booed at me?” Sudhir asked, unable to hide the torment in his voice. ‘Did you see them laugh?”

“You deserved it, Baljit said calmly. “Everyone makes mistakes. Even terrible mistakes are excusable if you learn from them. But what lesson have you drawn apart from the one in self-pity? How will you teach yourself not to repeat that mistake ? Not by avoiding play, but by going into it with a determination not to repeat it. Now, enough of all this. Go to the field and be ready to play.”

(“इफ यू डोन्ट नो हाउ टु फेस अप टु युअर मिस्टेक्स यू शुड नॉट वेंचर इन टू ए गेम, एनी गेम।”

“डिड यू हीअर हाउ दे बुड एट मी?” सुधीर आस्क्ड, अनेबल टु हाइड द टॉरमेन्ट इन हिज वाईस। “डिड यू सी देम लाफ?”

“यू डिड इट” बलजीत सेड कामली। “एवीवन मेक्स मिस्टेक्स। इवन टेरिबल मिस्टेक्स आर एक्स्यूसेबल इफ यू लर्न फ्राम देम। बट व्हाट लेसन हैव यू ड्रॉन एपार्ट फ्राम द वन इन सेल्फ पिटी? हाउ विल यू टीच युअरसेल्फ नॉट टु रिपीट दैट मिसटेक? नॉट बाय अवोइडिंग प्ले, बट बाय गोइंग इनटू इट विद अ डिटरमिनेशन नॉट टु रिपीट इट। नाउ इनफ ऑफ आल दिस। गो टु द फील्ड एण्ड बी रेडी टु प्ले।”)

हिन्दी अनुवाद :
यदि तुम अपनी गलतियों का सामना करना नहीं जानते हो तो तुम्हें किसी भी खेल में खेलने का साहस नहीं करना चाहिए।

“क्या आपने सुना लोग किस तरह मेरा अपमान कर रहे थे?” सुधीर ने अपनी आवाज में मानसिक कष्ट को छिपाने में अयोग्य होते हुए कहा।

“तुम उसके योग्य थे”, बलजीत ने शान्त भाव से कहा। “हर व्यक्ति गलती करता है। भयंकर से भयंकर गलती भी क्षम्य होती है यदि तुम उससे कुछ शिक्षा ग्रहण करते हो। पर तुमने अपने को दयनीय बनाने के अलावा क्या सीखा है? तुम अपने आपको यह कैसे सिखाओगे कि तुम उस गलती को दुबारा नहीं करोगे? खेल की उपेक्षा करके नहीं किन्तु उसमें उस गलती को दुबारा न करने के निश्चय के साथ वापस प्रवेश करने में। खैर, बहुत हआ। क्रीडा स्थल पर जाओ और खेलने के लिए तैयार होओ।

[7] Impervious to Sudhir’s despair, Baljit turmed away. Sudhir slowly made his way to the changing room. Surprisingly, his teammates were welcoming.

“Hi man! Nice to see you emerge from exile,” Naveen, the captain said, Baljit appeared again, chivvying them to get ready for the game.

“Give it your best, boys” he said as usual. Almost as an afterthought, he added “Sudhir, you will be playing right in today.”

(इम्परवियस टु सुधीर्स डिस्पेअर, बलजीत टर्ड अवे। सुधीर स्लोली मेड हिज़ वे टु द चेंजिंग रूम। सरप्राइजिंग्ली, हिज़ टीममेट्स वर वेलकमिंग।

“हाइ मेन! नाइस टु सी यू इमर्ज फ्राम एक्जाइल”, नवीन द कैप्टन सेड। बलजीत अपीयर्ड अगेन, चिविंग देम टु गेट रेडी ‘फोर द गेम।

“गिव युअर बेस्ट, बॉइज़” ही सेड एज युज्वल। आल्मोस्ट एज़ एन ऑफ्टर थॉट, ही एडेड, “सुधीर, यू विल बी प्लेइंग राइट इन टुडे।”)

हिन्दी अनुवाद :
सुधीर की निराशा के प्रति अप्रभावित रहते हुए बलजीत पलट गये। सुधीर धीरे से कमरे की ओर चला। उसे आश्चर्य हुआ जब टीम के साथियों ने उसका स्वागत किया।

“हाइ भले आदमी। तुम्हें वनवास से पुनः प्रवेश करते हुए देखकर प्रसन्नता हुई। “नवीन, कप्तान ने कहा। बलजीत खिलाड़ियों को खेल के लिए तैयार करने को प्रोत्साहित करते हुए पुनः प्रकट हुए।

“बच्चों, अपना सर्वोत्तम दो”, हमेशा की तरह उन्होंने कहा। लगभग पुनः विचार आने पर उन्होंने जोड़ा, “सुधीर तुम आज बहुत अच्छा खेलोगे।”

[8] I have been shifted because now he thinks I am just not good enough, thought Sudhir sadly. I guess I deserve it. The game began. The opposing team was good and the first half of the game moved fast. The team attacked again and again, displayed good dribbing and executed excellent passes. But when it came to a scoring opportunity, players from both sides became hesitant, almost nervous. Baljit noted this thoughtfully. He particularly watched Sudhir. The boy was playing with a finesse he had never before displayed.

(आइ हैव बीन शिफ्टेड बिकाज़ नाउ ही थिंक्स आई एम जस्ट नाट गुड इनफ थॉट सुधीर सेडली। आई गेस आई डिज़र्व इट। द गेम बिगेन। दी अपोसिट टीम वाज़ गुड एण्ड द फर्स्ट हाफ ऑफ द गेम मूव्ड फास्ट द टीम अटैक्ड अगेन एण्ड अगेन, डिस्प्लेड गुड ड्रिबलिंग एण्ड एक्सीक्यूटेड एक्सीलेंट पासेस। बट व्हेन इट केम टु अ स्कोरिंग अपार्चुनिटी प्लेयर्स फ्राम बोथ साइडस बिकेम हेजिटेन्ट, अलमोस्ट नर्वस। बलजीत नोटेड थॉट फुल्ली। ही पर्टिक्युलरी वाच्ड सुधीर द बॉय वाज़ प्लेइंग विद अ फाइनेसी ही हैड नेवर बिफोर डिस्पेड।)

हिन्दी अनुवाद-मेरी जगह बदली गई है क्योंकि वह सोचते हैं कि मैं अब इतना अच्छा नहीं रहा, सुधीर के दुःखी मन ने सोचा। मैं सोचता हूँ कि मैं हँसी के योग्य हूँ। खेल शुरू हुआ। विपक्षी दल अच्छा था और खेल का पूर्वार्द्ध तेजी से चला। दल ने बार-बार आक्रमण किया, कुछ अच्छी उछाल और कुछ बढ़िया पासेस क्रियान्वित किये। किन्तु जब गोल करने का मौका आता, तो दोनों पक्षों के खिलाड़ी हिचकिचाते एवं घबराते हुए नज़र आये। बलजीत ने इस बात को विचारपूर्वक नोट किया। वे खासकर सुधीर को देख रहे थे। लड़का बहुत कुशलता से खेल रहा था जो कि उसने पहले कभी नहीं दिखाया था।

[9] At half time, the players huddled around the coach, waiting for words of wisdom from him, and the all important criticism.

“Well played, boys,” Baljit said and then tore them apart for their tardiness in scoring and all those lost chances. He was not unpleasant, just coldly analytical. A whistle shrilled to mark the end of halftime. The players began moving back to the field.

“Just a minute, Sudhir,” Baljit held him back. “Listen, son, you are playing well. So stop wasting your time and take a shot at the goal. You have not made even one attempt at it. Finally, the scoreboard is the only testimony to your talent. So, go on and score. Do you hear me?

(एट हाफ टाइम, द प्लेयर्स हडल्ड अराउन्ड द कोच, वेटिंग फोर वर्ड्स ऑफ विस्डम फ्राम हिम, एण्ड ऑल द इर्पोटेन्ट क्रिटिसिज्म।

“वैल प्लेड बायज़”, “बलजीत सेड एण्ड दैन टोर अपार्ट फॉर देअर टार्डीनेज़ इन स्कोरिंग एण्ड ऑल दोज लास्ट चान्सेज़। ही वाज़ नाट अनप्लीजेंट, जस्ट कोल्डली अनलेटिकल। अव्हिसल श्रिल्ड टु मार्क दी एण्ड ऑफ हाफ टाइम। द प्लेयर्स बिगेन मूविंग बैक टु द फील्ड।

“जस्ट अ मिनट सुधीर”, बलजीत हैल्ड हिम बैक, “लिसन, सन, यू आर प्लेइंग वैल। सो स्टॉप वेस्टिंग यूअर टाइम एण्ड टेक अ शॉट टु द गोल। यू हैव नॉट मेड ईवन वन अटेम्प्ट एट इट। फाइनली द स्कोर बोर्ड इज़ दी ओनली टेस्टिमोनी टु युअर टेलेंट। सो गो ऑन एण्ड स्कोर। डू यू हीयर मी।)

हिन्दी अनुवाद :
अर्द्ध समय पर सभी खिलाड़ी कोच के चारों ओर उनके बुद्धिमत्ता पूर्ण शब्दों को सुनने व महत्वपूर्ण आलोचना सुनने के लिये घेरा बनाकर खड़े हो गए।

“बहुत अच्छा खेले, बालकों” बलजीत ने उन्हें कहा फिर उन्हें उनके स्कोरिंग के खोये हुए अवसरों पर उनके धीमेपन से मुक्त करने के लिये अलग-अलग कर दिया। वे दुःखी तो न थे सिर्फ ठंडेपन से विश्लेषण करने वाले थे। अर्द्ध समय खत्म होने की सूचना देती एक तीव्र सीटी बजी। सभी खिलाड़ी मैदान की ओर वापस लौट चले।

“सुधीर, एक मिनट” बलजीत ने उसके कंधे पर हाथ रखकर रोका, “बेटा, सुनो, तुम अच्छा खेल रहे हो। इसलिये समय बर्बाद करना बन्द करो और गोल की ओर शॉट लगाओ। तुमने अभी तक इसके लिए एक भी प्रयास नहीं किया है। अंततः स्कोरिंग बोर्ड ही तुम्हारी प्रतिभा की परीक्षा है। इसलिये जाओ और स्कोर करो। क्या तुम मुझे सुन रहे हो?

[10] Sudhir was speechless. He had hoped that it would not be noticed; that he was trying his best to avoid scoring. He did not know why, except that the nightmare of the last week was still alive. There was the sweet pleasure of being part of the game once more a part of something big, bigger than him at least. How had he kept away for so long? And yet, when it came to scoring, he shied away. He had never been afraid before,

(सुधीर वाज स्पीचलैस। ही हैड होप्ड दैट इट वुड नॉट बी नोटिस्ड, दैट ही वाज ट्राइंग हिज बेस्ट टु अवोयड स्कोरिंग। ही डिड नॉट नो व्हाय, एक्ससेप्ट दैट द नाइट मेअर ऑफ द लास्ट वीक वाज़ स्टिल अलाइव। देअर वाज़ स्वीट प्लेजर ऑफ बीइंग पार्ट ऑफ द गेम वन्स मोर-अ पार्ट ऑफ समथिंग बिग, बिगर दैन हिम एट लीस्ट। हाउ ही हैड केप्ट अवे सो फोर सो लांग? एण्ड यट, व्हेन इट केम टु स्कोरिंग ही साइड अवे। ही हैड नेवर बीन अफ्रेड बिफोर।)

हिन्दी अनुवाद :
सुधीर अवाक था। उसने उम्मीद की थी कि यह बात नोटिस नहीं होगी, और वह भी स्कोरिंग को टालने की कोशिश करता। वह नहीं जानता कि क्यों, इस बात को छोड़कर कि पिछले सप्ताह का दुःस्वप्न अभी भी जिन्दा था। खेल का एक बार फिर हिस्सा बनने का मधुर आनन्द था। किसी प्रकार की बड़ी चीज, कम से कम उससे तो बड़ी है। कितनी देर तक उसे अलग रखा गया था। और फिर भी जहाँ तक स्कोरिंग का सवाल था, वह उससे दूर ही रहा। वह कभी भी भयभीत नहीं हुआ था।

[11] His chance, the first one came when Naveen sent him a pass, a sizzling shot that defied interception and reached a little ahead of his right-in position.

Sudhir stopped the stinging hit with his stick and making a break with the ball, dribbled of past two players. He tapped the ball into a good scoring position and entered the D-area. His whack at the goal was a real beauty. The ball whizzed past the outstretched stick of the back and the padded legs of the goal keeper to hit the left inner board with a loud thud. It was a perfect field goal!

(हिज़ चान्स द फर्स्ट वन केम व्हेन नवीन सेंट हिम अ पास, अ सिजलिंग शॉट दैट डिफाईड इन्टरसेप्शन एण्ड रीच्ड अ लिटिल अहेड ऑफ हिज राइट इन पोज़िशन।

सुधीर स्टाप्ड द स्टिगिंग हिट विद् हिज़ स्टिक एण्ड मेकिंग अ ब्रेक विद् द बाल ड्रिबिल्ड ऑफ पॉस्ट टू प्लेयर्स। ही टेप्ड द बाल इन टू ए गुड स्कोरिंग पोजिशन एण्ड हंटर्ड द डी-एरिया! हिज़ व्हेक एट द गोल वाज़ अ रियल ब्यूटी। द बाल विज्ड पास्ट द आउट स्ट्रेच्ड स्टिक ऑफ द बेक एण्ड द पेडेड लेंग्स ऑफ द गोल कीपर टु हिट द लेफ्ट इनर बोर्ड विद् लाउड थड। इट वाज़ अ परफेक्ट गोल।)

हिन्दी अनुवाद :
उसका मौका प्रथम आया जब नवीन ने उसे एक बहुत उत्तेजित शॉट दी जो बाल को रोकने की चुनौती दे रही थी और उसकी राइट इन पोजिशन से थोड़ी आगे थी।

सुधीर ने उसको अपनी स्टिक से चुभती हुई हिट दो बाल को रोक कर दो पीछे के खिलाड़ियों से क्वारी की। उसने गेंद को एक अच्छी स्कोरिंग पोजिशन में टेप करते हुए डी-एरिया में प्रवेश किया। उसकी बाल को जोर की हिट वास्तव में देखने लायक थी। बाल तेजी से थोड़ी आवाज करती बेक खिलाड़ी की स्टिक के पिछले भाग से होती गोल कीपर के पेडेड टाँगों से गुजरी और इनर बोर्ड एक थाप से हाथ हिट किया। वह एक शानदार गोल था।

[12] Sudhir’s teammates thumped his back. Baljit shouted his approval and encouragement. Life regained its former healthy shape for Sudhir.

The game gathered pace. Sudhir’s team scored another goal this time it was from a penalty corner. But the real icing came in the dying minutes of the game, with the third goal. It was Sudhir, who scored again. He managed a solo run down the flank and dribbling past the defence was half turned away from the goal. It was not a scoring chance, but backed with his renewed confidence he was unstoppable. Scooping the ball with a reverse flick he had the opposition wooden on their feet, watching helplessly as the ball swung into the goal post.

(सुधीरर्स टीममेट्स थम्प्ड हिज़ बेक। बलजीत शाउटेड हिज़ अप्रूवल एण्ड इनकरेजमेंट। लाइफ रिजेन्ड इट्स फार्मरली हैल्दी शेप फोर सुधीर।

द गेम गैदर्ड पेस। सुधीर्स टीम स्कोर्ड अनादर गोल-दिस टाइम इट वाज़ फ्राम अ पेनल्टी कार्नर। बट द रियल आइसिंग केम इन द डाइंग मिनट्स ऑफ द गेम विद द थर्ड गोल। इट वाज सुधीर, हू स्कोर्ड अगेन। ही मेनेज्ड अ सोलो इन डाउन द फ्लेंक एण्ड ड्रिबलिंग पास्ट द डिफेन्स वाज़ हाफ टर्नड अवे फ्राम गोल। इट वाज़ नाट अ स्कोरिंग चान्स, बट बेक्ड विद हिज रिनिडड कान्फीडेन्स ही वाज अनस्टापेबल। स्कूपिंग द बाल विथ अ रिवर्स फ्लिक ही हैड द आपोजिशन वुडन आन देयर फीट, वाचिंग हैल्पलेस ली एज़ द बाल स्वंग इन टू द गोल पोस्ट।)

हिन्दी अनुवाद :
सुधीर के टीम के साथियों ने उसकी पीठ थपथपाई। बलजीत उसकी उपलब्धि पर और उसका उत्साहवर्धन करते हुए जोर से चिल्लाये। सुधीर के लिये जीवन ने अपने पूर्ववर्ती स्वस्थ स्वरूप को पुनः पा लिया था।

खेल तेजी से बढ़ने लगा। सुधीर की टीम ने एक और गोल दाग दिया। इस बार वह पेनल्टी कार्नर से हुआ था। किन्तु वास्तविक जमा देने वाली ठंडकं खेल के अन्तिम क्षणों में तीसरे गोल के समय आयी। वह सुधीर था, जिसने फिर स्कोर किया था। उसने मैदान की साइड से एक अकेला रन मेनेज किया और प्रतिरक्षा से क्यारी करते हुए गोल आधा घूम गया। यह यद्यपि स्कोरिंग का अवसर तो नहीं था किन्तु अपने नवीन बने आत्मविश्वास से पुष्ट होते वह किसी के द्वारा रोक सकने योग्य न था। गेंद को रिवर्स फ्लिक से उछालते हुए विरोधियों की गतिहीनता देखी, जो असहाय रूप से गेंद को गोल पोस्ट में जाते हुए देख रहे थे।

(13] Sudhir looked across at his coach and grinned. Baljit shook his head in a ‘You will not improve’ gesture but he also had a big smile on his face.

This was the half-chance that Baljit kept talking about and Sudhir had scored by using the same difficult manoeuvre that had led him to miss a sitter in the last match. They won the match 3-0.

For Sudhir what mattered most was that he was back where he belonged on the field. And he was the happiest person.

(सुधीर लुक्ड एक्रॉस एट हिज़ कोच एण्ड ग्रिन्ड। बलजीत शूक हिज़ हैड इन अ ‘यू विल नाइट इम्प्रूव’ गेस्चर बट ही अल्सो हैड अ बिग स्माइल ऑन हिज़ फेस।

दिस वाज़ द हाफ चान्स दैट बलजीत कैप्ट टाकिंग अबाउट एण्ड सुधीर हैड स्कोर्ड बाय यूजिंग द सेम डिफिकल्ट मेनोवर दैट हैड लेड हिम टु मिस अ सिटर इन द लास्ट मैच। दे बोन द मैच 3-4।

फोर सुधीर व्हाट मेटर्ड मोस्ट वाज दैट ही वाज बैक व्हेअर ही बिलांग्ड-ऑन द फील्ड। एण्ड ही वाज द हैफिएस्ट पर्सन।)

हिन्दी अनुवाद :
सुधीर ने अपने कोच की ओर देखा और खुलकर मुस्कराया। बलजीत ने यह अहसास करते हुए सिर हिलाया कि ‘तुम नहीं सुधरोगे पर उनके चेहरे पर एक बड़ी मुस्कान थी।

यह अर्द्ध-अवसर था जब बलजीत सुधीर के बारे में बात कर रहे थे और सुधीर ने उसी कठिन सावधानी व चतुरता भरा कार्य से स्कोर किया था जो कि उसने पिछले मैच में एक आसान हिट से चूक गया था। वे 3-0 से मैच जीत चुके थे।

सुधीर के लिए सबसे बड़ी बात यह थी कि वह उसी जगह पहुँच गया था-मैदान पर जहाँ उसे होना था और वह सबसे अधिक खुश व्यक्ति था।

We as a team believe the information prevailing regarding the MP Board Solutions for Class 9th English Chapter 8 The Second Chance Question and Answers has been helpful in clearing your doubts to the fullest. For any other help do leave us your suggestions and we will look into them. Stay in touch to get the latest updates on State Board Solutions for different subjects in the blink of an eye.

Leave a Comment