MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 3 The School for Sympathy

Enhance your subject knowledge with MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 3 The School for Sympathy Question and Answers and learn all the underlying concepts easily. Make sure to solve the MP Board Solutions for Class 9th English PDF on a day to day basis and score well in your exams. MP Board Class 9th English Chapter 3 The School for Sympathy are given after enormous research by people having high subject knowledge. You can rely on them and prepare any topic of English as per your convenience easily.

MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 3 The School for Sympathy

Students looking for English Concepts can find them all in one place from our MP Board Class 9th English Solutions. Simply click on the links available to prepare the corresponding topics of English easily. MP Board Solutions for Class 9th English Chapter 3 The School for Sympathy Question and Answers are given to you after ample research and as per the latest edition textbooks. Clarify all your queries and solve different questions to be familiar with the kind of questions appearing in the exam. Thus, you can increase your speed and accuracy in the final exam.

The School for Sympathy Textual Exercises

Word Power

(1) Correct the spelling of the following words:
(शब्दों की वर्तनी सही करके लिखें।)
Answer:

  1. panioncom – companion
  2. pplecri – cripple
  3. fortunemis – misfortune
  4. anityhum – humanity
  5. fortcom – comfort

(2) Match the following words with their correct meanings
(सुमेलित कीजिए)
MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 3 The School for Sympathy 1
Answer:
(1) → (e)
(2) → (d)
(3) → (b)
(4) → (a)
(5) → (c)

How Much Have I understood?

Answer the following questions
(निम्न प्रश्नों के उत्तर लिखिए)

Question 1.
Why do you think the writer wants to visit Miss Beam’s school?
(व्हाय डू यू थिंक द राईटर वॉन्ट्स टू विजिट मिस बीम्स् स्कूल?)
तुम्हारे विचारानुसार लेखक मिस बीम के स्कूल क्यों जाना चाहता है?
Answer:
The writer wants to visit Miss Beam’s school because he had heard a lot about it.
(द राईटर वॉन्ट्स टू विजिट मिस बीम्स् स्कूल बिकॉज ही हैड हर्ड अ लॉट अबाऊट इट।)
लेखक मिस बीम के विद्यालय जाना चाहता है क्योंकि उसने उसके बारे में बहुत कुछ सुन रखा है।

Question 2.
When the writer arrives at the school, he sees something unusual. What is it?
(व्हेन द राईटर एराइव्स एट द स्कूल ही सीज समथिंग अनयूजुअल, व्हॉट इज इट?)
जब लेखक विद्यालय आता है तो वह कुछ असाधारण देखता है। वह क्या है?
Answer:
The unusual thing that writer sees on arriving at the school was that a girl of about twelve, with her eyes covered with a bandage was being led carefully between the flower-beds by a little boy of eight.
(द अनयूजुअल थिंग दैट राईटर सीज़ ऑन एराइविंग एट द स्कूल वॉज़ दैट अ गर्ल ऑफ अबाऊट वैल्व, विद हर आईज़ कवर्ड विद अ बैन्डेज़ वॉज़ बींग लेड केअरफुली बिटवीन द फ्लावर-बैड्स बाई अ लिटल बॉय ऑफ एट।)
असाधारण बात जो लेखक ने देखी वह यह थी कि आँखों पर पट्टी बाँधे एक बारह वर्ष की लड़की को आठ वर्ष का एक लड़का फूलों की क्यारी के पास रास्ता बताता ले जा रहा था।

Question 3.
In which part of the school does the writer meet Miss Beam? ‘………..her round figure was likely to be comforting to a homesick child’. What does this mean?
(इन व्हिच पार्ट ऑफ द स्कूल डज द राईटर मीट मिस बीम? ……….”हर राउण्ड फिगर वॉज़ लाइकली टू बी कमफटिंग टू अ होमसिक चाइल्ड’, व्हॉट डज़ दिस मीन?)
विद्यालय के किस भाग में लेखक मिस बीम से मिलता है? ‘उनका गोलमटोल चेहरा ऐसे बच्चे को सांत्वना देने वाला था जिसे घर की याद सता रही हो।’ इसका क्या मतलब है?
Answer:
The writer meets Miss Beam inside the school. The given lines mean that she had such a comforting motherly appearance that a homesick child got the feeling that she was the member of his/her family.
(द राइटर मीट्स मिस बीम इनसाईड द स्कूल। द गिविन लाइन्स मीन दैट शी हैड सच अ कमफटिंग मदरली एपिअरेन्स दैट अ होमसिक चाइल्ड गॉट द फीलिंग दैट शी वॉज़ द मेम्बर ऑफ हिज़/हर फैमिली।)
लेखक मिस बीम से विद्यालय के अन्दर मिलता है। दी गई पंक्तियों का अर्थ है कि उनकी गोल-मटोल काया एक माँ सदृश व इतनी मृदु थी कि बच्चा उन्हें अपने घर का सदस्य समझता था व उसे घर की याद नहीं आती थी।

Question 4.
Which word in paragraph 3 suggests that Miss Beam’s school is perhaps a residential School?
(व्हिच वर्ड इन पैराग्राफ 3 सजेस्ट्स दैट मिस बीम्स स्कूल इज परहैप्स अ रेजिडेन्शिअल स्कूल?)
अनुच्छेद 3 में कौन-सा शब्द यह बताता है कि मिस बीम का विद्यालय एक आवासीय विद्यालय है?
Answer:
The word ‘homesick child’ suggests that Miss Beam’s school is perhaps a residential school.
(द वर्ड ‘होमसिक चाइल्ड सजेस्ट दैट मिस बीम्स स्कूल इज परहैप्स अ रेजिडेन्शिअल स्कूल।)
शब्द ‘घर की याद से परेशान या बेचैन’

Question 5.
What does the writer see in Miss Beam’s school that surprises and pains him? Is he right in thinking that not all the children are ‘healthy and active’?
(व्हॉट द राईटर इन मिस बीम्स स्कूल दैट सरप्राइजेज एण्ड पेन्स हिम। व्हाय? इज़ ही राईट इन थिकिंग दैट नॉट ऑल द चिल्ड्रन आर ‘हैल्दी एण्ड एक्टिव’?)
लेखक जो मिस बीम के स्कूल में देखता है उससे उसे आश्चर्य और दुःख होता है। क्यों? क्या उसकी यह सोच कि सभी बच्चे स्वस्थ व सक्रिय नहीं हैं सही है?
Answer:
In Miss Beam’s school writer sees that all the children are not healthy and active. This surprises and pains him. No, he is not right in thinking that not all the children are healthy and active because what he saw was not true. Children were merely pertending.

(इन मिस बीम्स स्कूल राईटर सीज़ दैट ऑल द चिल्ड्रन आर नॉट हैल्दी एण्ड एक्टिवा दिस सरप्राइजेज एण्ड पेन्स हिम। नो, ही इज नॉट राईट इन थिंकिंग दैट नाट ऑल द चिल्ड्रन आर हैल्दी एण्ड एक्टिव’ बिकॉज व्हॉट ही सॉ बाज़ नॉट टु। चिल्ड्रन वर मेयरली प्रिटेन्डिंग।)

मिस बीम के स्कूल में लेखक देखता है कि सभी बच्चे स्वस्थ व चुस्त नहीं हैं। यह उसे आश्चर्यचकित व दुःखी करता है। नहीं, वह सही नहीं है क्योंकि जो उसने देखा वह सच नहीं था। बच्चे महज ऐसा नाटक कर रहे थे।

Question 6.
How does Miss Beam give the children an idea of suffering in the world? How is the blind day educative to both the blind and the helpers?
(हाउ डज़ मिस बीम गिव द चिल्ड्रन एन आइडिया ऑफ सफरिंग इन द वर्ल्ड? हाउ इज़ द ब्लाइन्ड डे एजुकेटिव टू बोथ द ब्लाइन्ड एण्ड द हैल्पर्स?)
मिस बीम बच्चों को किस प्रकार दुनिया के कष्टों के बारे में जानकारी देती हैं? नेत्रहीन दिवस किस प्रकार अन्धे व उसके सहायकों के लिए शिक्षाप्रद है?
Answer:
Miss Beam gives the children an idea of suffering in the world by arranging artificial suffering. The blind day is educative to both, the blind and the helpers as the blind needs assistance of others in everything so he feels the suffering of a blind man and the helpers learn the duty to help others.

(मिस बीम गिव्स द चिल्ड्रन एन आइडिया ऑफ सफरिंग इन द वर्ल्ड बाइ अरेन्जिंग आर्टिफिशियल सफरिंग। द ब्लाइन्ड डे इज एजूकेटिव टू बोथ, द ब्लाइन्ड एण्ड द हैलपर्स एज द ब्लाइन्ड नीड्स असिस्टेन्स ऑफ अदर्स इन एव्रीथिंग सो ही फील्स द सफरिंग ऑफ अ ब्लाइन्ड मैन एण्ड द हैल्पर्स लर्न द ड्यूटी टू हैल्प अदर्स।)

मिस बीम बच्चों को दुनिया के कष्टों के बारे में कृत्रिम रूप से कष्ट अनुभव करा कर कराती हैं। नेत्रहीन दिवस बच्चों को नेत्रहीन व्यक्ति के कष्टों का बोध कराता है क्योंकि उन्हें उसकी विवशता का अनुभव होता है व उसके सहायक दूसरों की मदद करना सीखते हैं।

Question 7.
In what way is the dumb day more frightening than even the blind day?
(इन व्हॉट वे इज़ द डम्ब डे मोर फ्राइटनिंग दैन ईवन द ब्लाइन्ड डे?)
मूक दिवस, नेत्रहीन दिवस से ज्यादा भयावह क्यों है?
Answer:
The dumb day is more frightening than the blind day because the mouth is not bandaged like the eyes on blind day, so the child must use his will power.
(द डम्ब डे इज़ मोर फ्राइटनिंग दैन द ब्लाइन्ड डे बिकॉज़ द माउथ इज़ नॉट बैन्डेड लाइक द आईज़ ऑन ब्लाइन्ड डे, सो द चाइल्ड मस्ट यूज़ हिज़ विल पावर।)
मूक दिवस नेत्रहीन दिवस से ज्यादा भयावह है, क्योंकि मूक दिवस पर मुँह पर पट्टी नहीं बँधी होती। बच्चे को अपनी इच्छा शक्ति का प्रयोग करना होता है।

Question 8.
On which day is sitting down a relief? Why?
(ऑन व्हिच डे इज सिटिंग डाउन अरिलीफ? व्हाय?)
किस दिन बैठना राहत वाला होता है? क्यों?
Answer:
On blind day sitting down is a relief because if a child walks, he feels that he may be hit by something any moment.
(ऑन ब्लाइंड डे सिटिंग डाउन इज अ रिलीफ बिकॉज़ इफ अचाइल्ड बॉक्स, ही फील्स दैट ही मे बी हिट बाइ समथिंग एनी मोमेन्ट।)
नेत्रहीन दिवस पर बैठना राहत वाला होता है क्योंकि चलने में किसी भी पल टकराने का डर होता है।

Language Practice

(1) Choose the correct verb form from those in brackets
(सही शब्द चुनो।)

  1. The earth………………round the sun. (move, moves)
  2. The dates………………..good. (taste, tastes)
  3. The rain………..on your land. (fall, falls)

Answer:

  1. moves
  2. taste
  3. falls.

Listening Time

Fill in the missing words in the space given.
(रिक्त स्थान भरिए।)
Answer:
Miss Beam laughed “Oh, no” she said, “She’s not lame really, this is only her lame day. Nor are those others blind it is only their blind day.” I must have looked very much astonished, for she laughed again. “There you have an essential part of our system in a nutshell. In order to get these young minds to appreciate and understand misfortune, we make them share in misfortune too. In the course of the term every child has one blind day, one lame day, one deal day, one dumb day. During the blind day their eyes are bandaged, and it is a point of honour not to peep. The bandage is put on overnight, they wake up blind. This means that they need assistance in everything, and other children are told to help them and lead them about. It is educative to both of them-the blind and the helpers.”

Speaking Time

Answer the following questions seeing the diagram given in the book.
(पाठ्य-पुस्तक में दिए गए चित्र को देखकर निम्न प्रश्नों के उत्तर दो।)

  1. Whose learning achievement is higher?
  2. Do boys and girls differ in their feeling of patriotism?
  3. Whose risk taking ability is higher?
  4. Who are more creative?

Answer:

  1. Girls
  2. No
  3. Boys
  4. Girls.

Writing Time

Write a letter to your friend telling him/her about the lesson “School for Sympathy.”
(अपने मित्र को पाठ सहानुभूति विद्यालय के बारे में बताते हुए पत्र लिखो।)
Answer:
20, Budhwar Peth, Nagpur
12, December, 20…

Dear Mohan,

Hope you are fine there, I am also fine here. Today I am writing you this letter because I want to tell you about a school that does not teach thought but thoughtfulness. I read about such a thought provoking school in the lesson “The School for Sympathy’ in our text. I was really moved after reading it. It is about Miss Beam’s school and her innovative teaching method. In her school there is a blind day, a lame day, a deaf day and a dumb day for every child in the course of the term. It means that every child has to be a blind, a dumb, a deaf and a lame for a day so that he can experience himself the helplessness and problems of the disabled. It is educative to both the one who is disabled and the helper. The idea behind it is that only when we experience the state of the disability ourselves then only we really understand others miseries and sorrows.

After reading it I realized how unaware was I of others troubles and sometimes ignored them. It really touched my heart. You should also read it whenever you come here. Now.I am stopping to write. Rest is fine.

Yours as ever
Vikram

Things to do

Go to your school library and read any story about Helen Keller or any other successful blind/deaf/lame person and on the basis of your reading take notes and discuss it with your classmates. Ask your teacher to help you.
(अपने विद्यालय के पुस्तकालय में जाकर हेलेन केलर या अन्य किसी सफल अपंग या विकलांग व्यक्ति की कहानी पढ़िये। मुख्य बातें लिख लीजिए व अपनी कक्षा के अन्य बच्चों के साथ उन पर विचार करिये)
Answer:
Student should themselves read any story and make notes on their own or with the help of their teacher.
छात्र स्वयं करें।

The School for Sympathy Difficult Word Meanings

MP Board Class 9th General English The Spring Blossom Solutions Chapter 3 The School for Sympathy 2

The School for Sympathy Summary, Pronunciation & Translation

[1] I had heard a lot about Miss Beam’s school, but I did not get the chance to visit it till last week.

When I arrived at the school I saw a girl of about twelve, with her eyes covered with a bandage, being led carefully between the flower-beds by a little boy of eight. She stopped, and asked who it was that had come in, and he seemed to be describing me to her. Then they passed on.

(आई हैड हर्ड ए लॉट अबाउट मिस बीम्स स्कूल, बट आई डिड नाट गेट द चान्स टु विज़िट इट टिल लास्ट वीक।

व्हेन आई अराइव्ड एट द स्कूल आई सॉ अ गर्ल ऑफ अबाउट ट्वेलव, विद हर आइज कवर्ड विद अ बेन्डेज़, बीइंग लेड केअरफली बिटविन द फ्लावर-बेइज़ बाय अ लिटिल बॉय ऑफ एट। शी स्टॉप्ड, एण्ड आस्क्ड हू इट वाज दैड हैड कम इन, एण्ड ही सीम्ड टु डिस्क्राइबिंग मी टु हर। दैन दे पास्ड ऑन।)

हिन्दी अनुवाद :
मैंने मिस बीम के विद्यालय के बारे में काफी कुछ सुन रखा था, पर मुझे पिछले सप्ताह तक वहाँ जाने का कोई अवसर नहीं मिला था।

जब मैं विद्यालय पहुँचा तो मैंने लगभग बारह साल की एक बच्ची को देखा जिसकी आँखों पर पट्टी बँधी थी और जिसे लगभग आठ वर्ष का एक लड़का फूलों की क्यारियों के बीच साथ लेकर चल रहा था। वह रुकी और उसने पूछा कि कौन अन्दर आया है और ऐसा लगा कि वह उससे मेरे बारे में वर्णन कर रहा था। फिर वे चले गये।

[2] Miss Beam was all that I had expected middle-aged authoritative, kind and understanding. Her hair was beginning to turn grey, and her round figure was likely to be comforting to a homesick child.

We chatted for a little while, and when I asked her some questions about her teaching methods, which I had heard were simple.

(मिस बीम वाज ऑल दैट आई हैड एक्सपेक्टेड मिडिल एजेड-अथॉरिटेटिव, कांइन्ड एण्ड अण्डरस्टेडिंग। हर हेअर वाज बिगनिंग टु टर्न ग्रे, एण्ड हर राउण्ड फिंगर वाज लाइकली टु बी कम्फरटिंग टु अ होमसिक चाइल्ड।

वी चेटेड फोर अ लिटिल व्हाइल, एण्ड व्हेन आस्क्ड हर सम क्वेश्चन्स अबाउट हर टीचिंग मेथड्स, विच आई हैड हर्ड वर सिम्पल।)

हिन्दी अनुवाद :
मिस बीम जैसे कि मेरी अपेक्षा थी, मध्यम आयु की, दबदबा रखने वाली, दयालु और समझदार महिला थी। उनके बाल भूरे होना शुरू हो रहे थे, और उनकी गोलाकार आकृति किसी घर के प्रति अत्यन्त लगाव रखने वाले बालक के प्रति ममतामयी सकून देने वाली थी।

हम थोड़ी देर बातें करते रहे और जब मैंने उन्हें उनकी शिक्षण पद्धति के बारे में कुछ प्रश्न पूछे जो कि मैंने सुना था कि बहुत साधारण थे।

[3] “…….. We teach only those things that are simple and useful to pupils-spelling, adding, subtracting, multiplying, writing. The rest is done by reading to them and giving them interesting talks. There are practically no other lessons.

“…….. I have heard so much,” I said, “about the originality of your system.”

(वी टीच ओनली दोज थिंग्ज दैट आर सिम्पल एण्ड यूजफुल टु प्यूपिल्स-स्पेलिंग, ऐडिंग, सबट्रेक्टिंग, मल्टीप्लाइंग, राइटिंग। द रेस्ट इज़ डन बाइ रीडिंग टु देम एण्ड गिविंग देम इन्टरएस्टिंग टॉक्स। देअर आर प्रेक्टिकली नो अदर लेसन्स।

“आई हैव हर्ड सो मच”, आई सैड, “अबाउट द ऑरिजनेलिटी – ऑफ योर सिस्टम।”)

हिन्दी अनुवाद :
हम केवल उन्हीं वस्तुओं को सिखाते हैं जो छात्रों के लिए सरल एवं उपयोगी हों-वर्तनी, जोड़, गुणा, घटाना और लिखना सिखाया जाता है। शेष अध्यापन पढ़कर होता है और बच्चों से मनोरंजक बातें की जाती हैं। इसके अलावा कोई प्रायोगिक पाठ नहीं सिखाया जाता है। मैंने कहा “मैंने बहुत कुछ सुना है आपकी यथार्थता के विषय में”।

[4] Miss Beam smiled. “Ah, yes” she said. “I am coming to that. The real aim of this school is not to teach thought but thoughtfulness-humanity, kindness and citizenship. That is the ideal I have always had, and happily there are parents good enough to trust me to try and put it into practice. Look out of the window for a minute, will you?”

I went to the window, which looked out on a large garden and playground at the back.

(मिस बीम स्माइल्ड, “हा, यस” शी सेड, “आई एम कमिंग टु दैट। द रीअल एम ऑफ दिस स्कूल इज़ नाट टु टीच थॉट बट थॉटफुलनेस-हृयूमेनिटी, काइन्डनेस एण्ड सिटीजनशिप। दैट इज़ द आइडियल आई हेव आलवेज हैड, एण्ड हैप्पिली देअर आर पेरेण्ट्स गुड इनफ टु ट्रस्ट मी टु ट्राय एण्ड पुट इट इन्टु प्रेक्टिस। लुक आउट ऑफ द विन्डो फोर अ मिनट, विल यू?”

आई वेन्ट टु द विन्डो, विच लुक्ड आउट आन ए लार्ज गार्डन एण्ड प्लेग्राउण्ड एट द बेक।)

हिन्दी अनुवाद :
मिस बीम मुस्कराई, “अरे हाँ” वह बोली, “मैं उसी बात पर आ रही हूँ। इस विद्यालय का मुख्य उद्देश्य विचार सिखाना नहीं बल्कि विचारशील बनाना है जिसमें मानवता, दयालुता और नागरिकता समाहित हो। यह वही आदर्श है जो कि सदैव मेरे मन में रहा है, और खुशी की बात है कि अभिभावक मुझ पर भरोसा करते हैं और इसको अमल में लाने का प्रयास करते हैं।”

मैं खिड़की तक गया जो पीछे एक विशाल बगीचे और खेल के मैदान को दिखाती है।

[5] “What do you see?” Miss Beam asked. “I see some very beautiful grounds.” I said, “and a lot of jolly children. But what surprises me, and pains me too, is that they are not all healthy and active. As I came in I saw one poor little thing being led about because of some trouble with her eyes. And now I can see two more in the same condition, while there is a girl with a crutch just under the window watching the others at play. She seems to be a hopeless cripple.

(“व्हॉट डू यू सी?” मिस बीम आस्क्ड? “आई सी सम वेरी ब्यूटीफुल राउन्ड्स” आई सेड, “एण्ड अ लॉट ऑफ जॉली चिल्ड्रन। बट व्हाट सरप्राजेस मी, एण्ड पेन्स मी टू, इज़ दैट दे आर नॉट हेल्दी एण्ड एक्टिव। एंज़ आई केम इन आइ सॉ वन पुअर लिटिल थिंग बीईंग, लेड अबाउट बिकाज़ ऑफ सम ट्रबल विद हर आइज़। एण्ड नाउ आई केन सी टू मोर इन द सेम कन्डीशन, व्हाइल देअर इज़ अ गर्ल विद अ क्रच जस्ट अण्डर द विन्डो वाचिंग अदर्स एट प्ले। शी सीम्स टू बी अ होपलेस क्रिपल।”)

हिन्दी अनुवाद :
“आप क्या देखते हो ?” मिस बीम ने पूछा। “मैं कुछ बहुत सुन्दर मैदान देख रहा हूँ।” मैंने कहा, “और बहुत से प्रसन्न बच्चे परन्तु जो मुझे आश्चर्यजनक लगता है तथा कष्ट भी पहुँचाता है, वह है कि वे सभी स्वस्थ व सक्रिय नहीं हैं। जब मैं यहाँ आया तो मैंने देखा एक छोटी बच्ची को थाम कर ले जाया जा रहा था क्योंकि उसकी आँखों में कुछ तकलीफ थी। और अब मैं और दो को इसी तरह की स्थिति में देख रहा हूँ जहाँ खिड़की के ठीक नीचे एक बच्ची बैसाखी पर दूसरों को खेलते हुए देख रही है। वह एक निराश द्विव्योग प्रतीत होती है।”

[6] Miss Beam laughed. “Oh, no”, she said, “she’s not lame really, this is only her lame day. Nor are those others blind, it is only their blind day.” I must have looked very much astonished, for she laughed again. “There you have an essential part of our system in a nutshell. In order to get these young minds to appreciate and understand misfortune, we make them share in misfortune too.

(मिस बीम लाफ्ड “ओह, नो” शी सेड, “शी इज़ नाट लेम रीअली, दिस इज़ ओनली हर लेम डे। नॉर आर दोज अदर्स ब्लाइण्ड, इट इज़ ओनली देअर ब्लाइंड डे।” आई मस्ट हेव लुक्ड वेरी मच एस्टोनिश्ड, फोर शी लाफ्ड अगेन। “देअर यू हेव इन एसेंशियल पार्ट ऑफ अवर सिस्टम इन अ नटशेल। इन आर्डर टु गेट दीज़ यंग माइन्ड्स टु एप्रिशिएट एण्ड अन्डरस्टेन्ड मिसफायूँन, वी मेक देम शेयर इन मिसफाळून टू।)

हिन्दी अनुवाद :
मिस बीम हँसी। “अरे नहीं”, उन्होंने कहा, “वह वास्तव में लँगड़ी नहीं है, यह उसका केवल पंगू दिवस है। न ही वे दूसरे अन्धे हैं, यह उनका केवल अन्धदिवस है।” मैं बहुत अधिक आश्चर्यचकित दिखाई दिया होऊँगा क्योंकि वह फिर हँसी थीं। आपने हमारी पद्धति का एक आवश्यक भाग संक्षिप्त रूप में पाया। इन बाल मस्तिष्क को प्रेरित करने एवं दुर्भाग्य को समझाने के लिए हम उन्हें दुर्भाग्य में शामिल भी करवाते हैं।

[7] In the course of the term every child has one blind day, one lame day, one deaf day and one dumb day. During the blind day their eyes are bandanged, and it is a point of honour not to peep. The bandage is put on overnight, they wake up blind. This means that they need assistance in everything, and other children are told to help them and lead them about. It is educative to both of them the blind and the helpers.”

(इन द कोर्स ऑफ द टर्म एव्री चाइल्ड हेज वन ब्लाइंड डे, वन लेम डे, वन डीफ डे एण्ड वन डम्ब डे। ड्यूरिंग द ब्लाइंड डे, देअर आइज आर बेंडेज, एण्ड इट इज़ अ पॉइन्ट ऑफ ऑनर नाट टु पीप। द बेण्डेज इज़ पुट ऑन ओवरनाइट, दे वेक अप ब्लाइंड। दिस मीन्स दैट दे नीड असिस्टेन्स इन एव्रीथिंग, एण्ड अदर चिल्ड्रन आर टोल टु हेल्प देम एण्ड लीड देम अबाउट। इट इज़ एजुकेटिव टु बोथ ऑफ देम-द ब्लाइन्ड एण्ड द हेल्पर्स।”)

हिन्दी अनुवाद :
शिक्षा सत्र के दौरान हर एक बालक का एक अन्धदिवस, एक पंगु दिवस एक बधिर दिवस और एक मूक दिवस होता है। अन्ध दिवस के दौरान उनकी आँखों पर पट्टी बाँध दी जाती है और यह एक प्रतिष्ठा की बात होती है कि वे झाँके नहीं। पट्टी सारी रात को ही बँधी रहती है ताकि वे एक अंधे की तरह ही जागें। इसका अर्थ है कि उनको सहायता की जरूरत पड़ती है और अन्य बच्चों को उनकी सहायता करने को कहा जाता है। यह अंधे व उनके सहायकों दोनों के लिए ही शिक्षाप्रद होता है।

[8] “Everyone is very kind, “Miss Beam continued, “and it is really something of a joke, although of course, before the day is over the reality of the disability becomes clear even to the least thoughtful. The blind day is, of course, really the worst, but some of the children tell me that the dumb day is the most frightening. There, of course, the child must use will-power only because the mouth is not bandaged. But come down into the garden and see for yourself how the children like it.

(“एवीवन इज़ वेरी काइन्ड” मिस बीम कन्टीन्यूड, “एण्ड इट इज़ रीअली समथिंग ऑफ ए जोक, अल्दो, ऑफ कोर्स, बिफोर द डे इज़ ओवर द रियलिटी ऑफ द डिस्एबीलिटी बिकम्स क्लीअर इवन टु द लीस्ट थाटफुल। द ब्लाइंड डे इज़, ऑफ कोर्स, रिअली द वर्ट, बट सम ऑफ द चिल्ड्रन टेक मी दैट द डम्ब डे इज़ द मोस्ट फ्राइटनिंग। देअर, ऑफ कोर्स, द चाइल्ड मस्ट यूस विल पावर ओनली बिकाज़ द माउथ इज़ नाट बेन्डेज्ड। बट कम डाउन इन्टू द गार्डन एण्ड सी फोर युअरसेल्फ हाउ द चिल्ड्रन लाइक इट।”)

हिन्दी अनुवाद :
“यहाँ हर व्यक्ति दयावान है।” मिस बीम ने कहना जारी रखा,”और यह एक प्रकार का मजाक ही है। यद्यपि निश्चय ही, दिन समाप्त होने के पूर्व दिव्यांगता की वास्तविकता बहुत कम विचारवान को भी स्पष्ट हो जाती है। अन्धदिवस वास्तव में बहुत खराब है किन्तु कुछ बच्चों ने बताया कि मूक दिवस बहुत ही डरावना होता है। उसमें बालक को अपनी दृढ़ इच्छा शक्ति का पालन करना होता है क्योंकि मुँह पर पट्टी नहीं बाँधी जाती। परन्तु आप बगीचे में आइये व स्वयं देखिये कि बच्चे इसे कितना. पसन्द करते हैं।

[9] Miss Beam led me to one of the bandaged girls, a little merry thing. “Here’s a gentleman come to talk to you,” said Miss Beam, and left us.
“Don’t you ever peep?” I asked, by way of an opening.
“Oh, no”, she exclaimed, “that would be cheating! But i’d not idea it was so awful to be blind. You can’t see a thing. One feels one is going to be hit by something every moment sitting dawn such a relief.

(मिस बीम लेड मी टु वन ऑफ द बेन्डेज्ड गर्ल्स ए लिटिल मेरी थिंग। “हिअर इज़ अ जेन्टलमैन कम टु टाक टु यू” सेड मिस बीम एण्ड लेफ्ट अस।
“डोन्ट यू एवर पीप?” आई आस्क्ड, बॉय वे ऑफ एन ओपनिंग।
“ओह नो”, शी एक्सक्लेम्ड, “दैट वुड बी चीटिंग। बट आई हेड नो आइडिया इट वाज सो ऑफुल टु बी ब्लाइंड।. यू कान्ट सी ए थिंग। वन फील्स वन इज गोइंग टु बी हिट बाय समथिंग एव्री मोमेण्ट। सिटिंग डाउन इज सच ए रिलीफ।)

हिन्दी अनुवाद :
मिस बीम मुझे आँखों पर पट्टी बँधी एक बच्ची के पास ले गईं, एक छोटी प्रसन्न बच्ची।” यहाँ एक सज्जन तुमसे बात करने आये हैं”, मिस बीम ने कहा और हमें वहीं छोड़कर चली गईं।
“क्या तुम कभी बीच से झाँकती हो।” मैंने बात शुरू करने के इरादे से कहा।
“अरे नहीं”, वह बोल उठी, “यह तो धोखा देना होगा किन्तु मुझे पता नहीं था कि अन्धा होना कितना दुःखपूर्ण होगा। तुम किसी चीज को देख नहीं पाते हो। ऐसा लगता है कि तुम कभी भी किसी चीज से टकरा जाओगे। बैठना बड़ी राहत देता है।

[10] “Are your guides kind to you?” I asked.
“Pretty good. Not so careful as I shall be when it’s my turn. Those that have been blind already are the best. It’s terrible not to see. I wish you’d try!”
“Shall I lead you anywhere” I asked.

(“आर यूअर गाइड्स काइन्ड टु यू?” आई आस्क्ड।
“प्रेटी गुड। नाट सो केयरफुल एज आई शाल बी व्हेन इट्स माई टर्न। दोज दैट हेव बीन ब्लाइंड अलरेडी आर द बेस्ट। इट्स टेरिबल नाट टु सी। आई विश यू वुड ट्राय।”
“शाल आई लीड यू एनी व्हेयर” आई आस्क्ड।)

हिन्दी अनुवाद :
“क्या तुम्हारे मार्गदर्शक तुम्हारे प्रति दयालु हैं।” मैंने पूछा।
“काफी अच्छे। किन्तु इतने फिक्रवान नहीं जितना मैं होऊँगा जब मेरी बारी आयेगी। वे जो पहले से अंधे हैं, सर्वोत्तम हैं। नहीं देख पाना बहुत भयावह है। आप भी कोशिश करके देखिये न।”
“क्या मैं तुम्हें कहीं और ले चलूँ?” मैंने पूछा।

[11] “Oh, yes”, she said, “let’s go for a little walk. Only you must tell me about things. I shall be so glad when today’s over. The other bad days can’t be half as bad as this. Having a leg tied up and hopping about on a crutch is almost fun. I guess. Having an arm tied up is a little more troublesome, because you have to get your food cut up for you, and so on, but it doesn’t really matter. And as for being deaf for a day, I shan’t mind that-at least, not much. But being blind is so frightening. My head aches all the time, just from avoiding things that probably aren’t there. Where are we now?”

(“ओह, यस”, शी सेड, “लेट्स गो फोर अलिटिल वाक्। ओनली यू मस्ट टेल मी अबाउट थिंग्स। आई शेल बी सो ग्लेड व्हेन टुडेइज ओवर। दी अदर बेड डेज काण्ट मी हाफ एज बेड एस दिस। हेविंग अ लेग टाइट अप एण्ड होपिंग अलाइट ऑन अ क्रच इज आलमोस्ट फन। आई गेस। हेविंग एन आर्म टाइड अप इज अ लिटिल मोर ट्रबलसम, बिकाज़ यू हेव टु गेट युअर फुड कट अप फोर यू, एण्ड सो ऑन, बट इट डज़ नाट रीअली” मेटर। एण्ड एज़ फोर बीइंग डीफ फोर अ डे, आई शांट माइंड दैट-एट लीस्ट नाट मच। बट बीइंग ब्लाइंड इज सो फ्राइटनिंग। माई हेड एक्स ऑल द टाइम, जस्ट फ्रॉम अवाइडिंग थिंग्स दैट प्राबेबली आरण्ट देअर व्हेअर वी आर नाउ?”)

हिन्दी अनुवाद :
“अरे, हाँ।” उसने कहा, “आओ हम थोड़ी देर घूमने चलते हैं। आपको केवल आसपास की चीजों के बारे में बताना होगा। आज का दिन बीतने के बाद मैं बहुत प्रसन्न होऊँगी। अन्य बुरे दिन इतने बुरे नहीं होंगे जितना कि वह। एक टाँग बँधवा कर बैसाखियों पर वहाँ-वहाँ फुदकना बड़ा मजेदार होगा। मैं ऐसा अनुमान लगाती हूँ। और एक हाथ बँधवाकर थोड़ा कष्टदायी होता होगा, क्योंकि तुम्हें अपना भोजन अपने लिए काटकर खाना होगा। और अन्य बातें। खैर कोई बात नहीं। और जहाँ तक बहरा दिवस की बात है मुझे उसका बुरा नहीं लगेगा-कम से कम ज्यादा तो नहीं। किन्तु अन्धदिवस बहुत ही भयावह होता है। मेरा सिर दिन भर दुखता है केवल उन चीजों को नजरअंदाज करते हुए जो कि शायद वहाँ हैं ही नहीं। अब हम कहाँ हैं?

[12] “In the playground”, I said, “going towards the house. Miss Beam is walking up and down the terrace with a tall girl.”
“What has the girl got on?” My companion asked.
“I blue skirt and a pink blouse.”
“I think it’s Millie”, she said, “What colour is her hair?”
“Very light”, I said.
“Yes, that’s Millie. She’s the head girl. She’s very decent.”
“There’s an old man tying up roses”, I said.
“Yes, that’s Peter. He’s the gardener.”
“And here comes a dark girl in red, on crutches.”
“Yes”, she said, “that’s Berryl.”

(“इन द प्लेग्राउंड,” आई सेड, “गोइंग टु वर्ड्स द हाउस। मिस बीम इज़ वाकिंग अप एण्ड डाउन द टेरेस विद अटॉल गर्ल।”
“व्हाट हेज़ द गर्ल गॉट आन?” माइ कम्पेनियन ऑस्क्ड। “अ ब्ल्यू स्कर्ट एण्ड अ पिंक ब्लाउज।”
“आई थिंक इट्स मिली” शी सेड, “व्हाट कलर इज़ हर हेअर?”
“वेरी लाइट” आई सेड।
“यस दैट्स मिली। सी इज द हेड गर्ल, शी इज़ वेरी डिसेण्ट।”
“देअर इज़ एन ओल्ड मैन टाइंग अप रोज़ेज़” आई सेड।
“यस, दैट्स पीटर। ही इज द गार्डनर।”
“एण्ड हियर कम्स अ डार्क गर्ल इन रेड, आन क्रचेस।”
“यस,” शी सेड, “दैट्स बेरील।”)

हिन्दी अनुवाद :
“खेल के मैदान में” मैंने कहा, “घर की ओर जा रहे हैं। मिस बीम, छत पर एक लम्बी लड़की के साथ टहल रही हैं।”
“उस लड़की ने क्या पहना हुआ है।” मेरी साथिन ने पूछा।
“एक नीला स्कर्ट व गुलाबी ब्लाउज।”
“मैं सोचती हूँ, वह मिली है” उसने कहा, “उसके बालों का रंग क्या है?”
“बहुत हल्का” मैंने कहा।
“हाँ वह मिली ही है। वह प्रधान लड़की है, वह बहुत सभ्य है।”
“वहाँ एक वृद्ध महाशय हैं वे गुलाबों को बाँध रहे हैं।” मैंने कहा।
“हाँ वे पीटर हैं। वे माली हैं।” और यह एक काली लड़की आ रही है वह बैसाखी लिए लाल कपड़े पहनी हैं।”
“हाँ” उसने कहा, “वह बेरिल है।”

[13] And so we walked on, and in guiding this little girl about I discovered that I was ten times more thoughtful already than usual. I also realized that having to describe the surroundings to another, makes them more interesting.
When Miss Beam came to release me I was sorry. to go, and said so.
“Ah!” she replied. “Then there is something in my system after all.”
I walked back to the town murmuring (incorrectly as ever) the lines :
Can I see another’s woe,
And not share their sorrow too?
O no, never can it be,
Never, never, can it be.  – Simplified form EV Lucas

(एण्ड सो वी वाक्ड ऑन, एण्ड इन गाइडिंग दिस लिटिल गर्ल अबाउट आई डिस्कवर्ड दैट आई वाज टेन टाइम्स मोर थाट फुल अलरेडी देन युज्अल। आई अल्सो रियलाइज़्ड दैट हेविंग टु डिस्क्राइब द सराउडिंग्स टु अनादर, मेक्स देम मोर इंटरेस्टिंग।
व्हेन मिस बीम केम टु रिलीज़ मी आई वाज सारी टु गो, एण्ड सेड सो।
“आह!” शी रिप्लाइड “देन देअर इज़ समथिंग इन माय सिस्टम आफ्टर आल।”
आई वाक्ड बेक टु द टाउन मर्मरिंग (इनकरेक्टली एज़ एवर) द लाइन्स।
केन जाय सी अनादर्स वो,
एण्ड नाइट शेअर सॉरो टू?
ओ नो, नेवर केन इट बी,
नेवर नेवर केन इट बी।)

हिन्दी अनुवाद :
और हम इसी तरह चलते रहे, और इस छोटी बच्ची के निर्देशित करते हुए मैंने पाया कि मैं हमेशा से ज्यादा दूसरों के लिए दस गुना ज्यादा विचारवान बन गया हूँ। और मैंने यह भी महसूस किया कि दूसरों को आसपास के रहन-सहन के बारे में वर्णन करने से वह और ज्यादा दिलचस्प बन जाता है।
जब मिस बीम मुझे छोड़ने के लिये आईं तो मुझे वहाँ से विदा लेने में दुःख हो रहा था और मैंने उनसे यह कहा भी।
“अच्छा” मिस बीम ने उत्तर दिया, “तो फिर मेरी इस पद्धति में कुछ दम है।”
मैं निम्न पंक्तियाँ (हमेशा की तरह त्रुटिपूर्ण) गुनगुनाते हुए नगर की ओर वापस लौटा।
क्या मैं दूसरों के दुःखों को देख सकता हूँ, और उनके दुःख में भागीदार नहीं बन सकता?
अरे नहीं, यह कभी नहीं हो सकता,
कभी नहीं, कभी नहीं, यह नहीं हो सकता है?

We as a team believe the information prevailing regarding the MP Board Solutions for Class 9th English Chapter 3 The School for Sympathy Question and Answers has been helpful in clearing your doubts to the fullest. For any other help do leave us your suggestions and we will look into them. Stay in touch to get the latest updates on State Board Solutions for different subjects in the blink of an eye.

Leave a Comment