MP Board Class 11th English The Spectrum Solutions Chapter 2 The Limits of Knowledge

Looking to improve English skills and gain more subject knowledge then the best resources that you can use here is MP Board Class 11th The Spectrum Solutions Chapter 2 The Limits of Knowledge Questions and Answers. In the MP Board Class 11th English textbook Answers pdf, subject experts covered all types of questions and answers related to the topics, quick notes, summary, solved & unsolved exercises, etc. If you are planning to prepare Chapter wise Questions and Answers, then you’re suggested to go with this MP Board Class 11th English Textbook Solutions PDF for better understanding and preparation.

MP Board Class 11th English The Spectrum Solutions Chapter 2 The Limits of Knowledge

English Subject experts who are having max years of experience prepared this MP Board Solutions for Class 11th. They have explained all the topics covered in the board prescribed latest syllabus in a simple way to understand easily. So, students can prepare Chapter 2 The Limits of Knowledge from this MP Board Class 11th English book PDF.

The Limits of Knowledge Textual Questions and Answers

Word Power

Question 1.
Match the words in column A with their meanings in column B.
[शब्दों का उनके अर्थों से मिलान करो।।.
Answer:
1 +4,2+ 1,3+5,4+2,5+6.6 + 3.

Comprehension

A. Answer the following questions in one or two sentences each.
[निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक या दो वाक्यों में दीजिए।

Question 1.
In what kind of scholarship did King Bhoj believe? (2012)
राजा भोज किस तरह के पाण्डित्य में विश्वास करते थे ?
Answer:
King Bhoj believed in that kind of scholarship which strives relentlessly to extend the limits of human knowledge
जो मानवीय ज्ञान की सीमाओं को बढ़ाने में निरन्तर संघर्षरत हो।

Question 2.
What caused the king and scholar to lose their way?
राजा तथा विद्वान मार्ग क्यों भटक गये ?
Answer:
They lost their way because they were deeply immersed in literary and philosophical discussion
वे मार्ग से भटक गये क्योंकि वे साहित्यिक तथा दार्शनिक चर्चा में डूबे हुए थे।

Question 3.
What did the king and the scholar ask the old woman ?
राजा और विद्वान ने बूढ़ी औरत से क्या पूछा ?
Answer:
They asked the old woman to tell them where that road went.
उन्होंने पूछा कि वह रास्ता कहाँ जाता था।

Question 4.
What did she reply ? उसने क्या जवाब दिया ?
Answer:
She said that the road did not go anywhere but stayed where it was. It was only the people who walked on it went somewhere.
उसने कहा कि रास्ता कहीं नहीं जाता, वहीं रहता है। केवल वे लोग जो उस पर चलते हैं, वे कहीं जाते हैं।

Question 5.
Who are the two guests according to the old woman ? (2014)
बूढ़ी औरत के अनुसार दो अतिथि कौन हैं ?
Answer:
According to the old woman the two guests are wealth and youth.
धन और यौवन दो अतिथि हैं।

Question 6.
Who are Indra and Yama? (2013, 15)
इन्द्र और यम कौन है ?
Answer:
Indra and Yama are the two kings. Indra is the king of Gods while Yama is the king of death.
इन्द्र और यम राजा हैं। इन्द्र देवताओं के राजा हैं तथा यम मृत्यु के देवता हैं।

Question 7.
Who are the two Sadhus?
दो साधु कौन हैं ?
Answer:
The two Sadhus are modesty and contentment.
विनम्रता और सन्तोष दो साधु हैं।

Question 8.
How would you define the word ‘pardesi’?
‘परदेसी’ शब्द को तुम किस प्रकार परिभाषित करोगे?
Answer:
Pardesi is a person who comes to a new country or town.
वह व्यक्ति जो किसी नए देश या गाँव आता है।

Question 9.
Who are the two defeated in the world? (2008, 09)
संसार में दो हारे हुए व्यक्ति कौन है ?
Answer:
The two defeated men are a man burdened with debt and the father of a girl who hasn’t got good qualities.
कर्ज के बोझ से दबा हुआ व्यक्ति और सद्गुण रहित लड़की का पिता।

Question 10.
Why did the old woman pretend not to know them ?
बूढ़ी औरत ने उन्हें न पहचानने का नाटक क्यों किया ? (2011)
Answer:
According to the woman the king and his companion had become too proud of their wealth and learning. Hence she pretended not to know them in order to bring them down to earth.

बूढ़ी औरत के अनुसार, राजा तथा उसके साथी को अपनी दौलत तथा जोत का दम्भ हो गया था। इसलिए उन्हें जमीन पर लाने के लिए उसने उन्हें न पहचानने का नाटक किया।

B. Answer the following questions in three or four sentences each.
निम्नलिखित प्रश्नों का तीन या चार वाक्यों में उत्तर दीजिए।।

Question 1.
King Bhoj was a learned man. On what basis would you support this statement ? (2009, 10)
राजा भोज विद्वान व्यक्ति थे। इस वाक्य की पुष्टि आप किस आधार पर करेंगे ?
Answer:
He was well versed in sculpture, architecture, science and engineering. Apart from these he was well-versed in astrology, music as well as theatre. He also used to delve deep into the highest questions of ethics and philosophy.

वे मूर्तिकला, वास्तुकला, विज्ञान, यान्त्रिकी, ज्योतिष, विज्ञान, संगीत तथा नाट्यकला के प्रकाण्ड पण्डित थे। वे नीतिशास्त्र तथा दर्शनशास्त्र के प्रश्नों में गहरे उतर जाते थे।

Question 2.
Why in your opinion did the old woman describe wealth and youth as guests? (2014)
आपके विचार से बूढ़ी औरत ने दौलत और यौवन को अतिथि क्यों कहा?
Answer:
Guests come and stay for a short time. They don’t come to stay permanently. Both youth and wealth do not stay with a person permanently. They come and depart after some time. Hence, the old woman described them as guests.

अतिथि कुछ समय के लिए आते हैं, हमेशा के लिए नहीं। दौलत और यौवन दोनों ही किसी व्यक्ति के साथ हमेशा नहीं रहते। वे आते हैं और कुछ समय बाद चले जाते हैं। इसलिए बूढ़ी औरत ने उन्हें अतिथि कहा।

Question 3.
“Only the soul and the leaf ofatree can be Pardesi.” Justily the statement in your own words.
“केवल आत्मा और पेड़ की पत्ती ही परदेसी हैं।” इस कथन का अपने शब्दों में समर्थन कीजिए।
Answer:
The soul of a person enters his body at the time of his birth and leaves it at the time of his death. Similarly, the leaf of a tree sprouts on its branch, stays on for some time and then falls on the ground. It also stays on the tree for some time. Hence, both of them, the soul and the leaf can be treated as Pardesi.

किसी व्यक्ति की आत्मा उसके शरीर में उसके जन्म के समय प्रवेश करती है तथा उसकी मृत्यु के समय वापस जाकर समष्टि में समा जाती है। इसी प्रकार पेड़ की पत्ती उसकी शाखा पर उगती है, कुछ समय साथ रहने के बाद जमीन पर गिर जाती है। अत: दोनों को परदेसी कहा जा सकता है।

Question 4.
The old woman wanted to teach the king and his scholar a lesson. Did she succeed ? Explain.
बूढ़ी औरत राजा तथा उसके साथी को सबक सिखाना चाहती थी। क्या वह सफल हुई ? समझाओ।
Answer:
The king and his scholar companion were very learned men. They had become proud of their learning. The old woman wanted to teach them a lesson and hence went on asking them searching questions as well as counter their answers. In the end they realised their mistake and the old woman succeeded in bringing them down to earth.

राजा तथा उसका साथी विद्वान व्यक्ति थे। उन्हें अपने ज्ञान पर घमण्ड था। बूढ़ी औरत उन्हें सबक सिखाना चाहती थी और इसीलिए प्रत्युत्तर में उनसे खोजपूर्ण प्रश्न पूछती जा रही थी तथा उनके उत्तरों का प्रतिकार भी करती जा रही थी। अन्त में उन्हें अपने गलती का अहसास हुआ और बूढ़ी औरत उन्हें जमीन पर लाने में सफल हो गयी।

Question 5.
How did the king and the scholar feel at the end of the story? राजा तथा विद्वान को कहानी के अन्त में कैसा लग रहा था ?
Answer:
The old woman caught them on the wrong foot when they asked her where the road went. Hence she started asking them searching questions as well as ridiculing their answers. With this approach of hers, they slowly became desperate and at the end threw up their hands in despair

जब राजा तथा विद्वान ने बूढी औरत से पूछा कि रास्ता कहाँ जाता है तो बूढ़ी औरत को मौका मिल गया उनके ज्ञानी होने का घमण्ड चूर-चूर करने का तथा उसने बेतुके प्रश्न पूछना तथा उनके द्वारा दिए गए उत्तरों का मजाक बनाना और उन्हें गलत साबित करना शुरू कर दिया। इस तरह वे धीरे-धीरे हताश हो गए और अन्त में निराश होकर उन्होंने हथियार डाल दिये।

Question 6.
Why did the woman decide to bring the king and the scholar to earth ?
बूढ़ी औरत ने राजा तथा विद्वान को जमीन पर लाने का निश्चय क्यों किया ?
Ans.
From their behaviour the old woman concluded that they had become proud of their wealth and learning. This wasn’t good for them, particularly for the king because that would have harmed the interests of the people of his kingdom. So she decided to teach them a lesson and bring them down to their senses.

उनके व्यवहार से बूढ़ी औरत ने निष्कर्ष निकाला कि उन्हें अपनी दौलत तथा अपने ज्ञान का घमण्ड हो गया है। यह उनके लिए, खासतौर से राजा के लिए अच्छा नहीं था क्योंकि इससे उसके राज्य के लोगों की हानि होती। इसलिए उसने उन्हें सबक सिखाने का निश्चय किया।

Language Practice

इस खण्ड के मूल प्रश्न व तालिकाएँ अपनी पाठ्य-पुस्तक में से देखिए। यहाँ केवल उनके उत्तर दिए जा रहे हैं।]

B. Read the passage and underline the articles a/an and the.
अनुच्छेद को पढ़कर a/an और the को रेखांकित कीजिए।।
Answer:
My friend is an architect. After graduation she took up a job with a multinational company. The job takes her all over the country. It is extremely interesting. At the moment, she is looking for a new job
because the travelling is getting very tiresome.

C. Insert a/an or the in the blank spaces.
la/an or the से खाली स्थान भरो।
Answer:

  1. an
  2. the
  3. a, a, the, the
  4. a
  5. a, the, an, the
  6. a
  7. a
  8. a
  9. a
  10. the.

D. Identify the following as normally countable [C] or uncountable
[U]. Add at least five more items to each type.
Countable या uncountable पहचानो। प्रत्येक प्रकार के पाँच और जोड़ो।]
Answer:
MP Board Class 11th English The Spectrum Solutions Chapter 2 The Limits of Knowledge 1

E. Fill in the blanks with correct determiners given :
Determiners से रिक्त स्थान भरो।।
Answer:

  1. a
  2. some
  3. the, the
  4. one
  5. some
  6. some
  7. the
  8. a, a, an
  9. some
  10. a, the.

F. Insert ‘some’ or ‘any’ where required .
“some’ और ‘any’ उचित जगह भरो।
Answer:

  1. some
  2. any
  3. any
  4. some, any
  5. some
  6. any
  7. any
  8. some, any
  9. some, any
  10. some.

G Fill in the blanks with ‘much’ or ‘many’ as required.
I’much’ और ‘many’ से रिक्त स्थान भरो।।
Answer:

  1. much
  2. many
  3. many
  4. much
  5. much
  6. much
  7. many
  8. many.

The Limits of Knowledge Summary in Hindi

राजा भोज देवी सरस्वती के उपासक थे। उनका विश्वास ऐसे पाण्डित्य में नहीं था जो पुस्तकों में छुपा रहे, वे तो ऐसी विद्वता में विश्वास रखते थे जो मानवीय ज्ञान की सीमाओं को बढ़ाने के लिए निरन्तर संघर्षरत हो। उनके दरबार में सबसे अधिक सम्मान दिया जाता था पाण्डित्य को तथा उसको प्राप्त करने के लिए निरन्तर प्रयत्नशील व्यक्तियों को। वे स्वयं भाषा, व्याकरण, कविता, मूर्तिकला, वास्तुकला, ज्योतिष विज्ञान, संगीत, नाट्यकला तथा नीतिशास्त्र के महत्त्वपूर्ण प्रश्नों तथा दर्शनशास्त्र के प्रकाण्ड पण्डित थे। एक दिन वे पड़ोसी राज्य के एक अत्यन्त पढ़े-लिखे विद्वान के साथ ग्रामीण क्षेत्र में धूम रहे थे। घूमते समय वे दोनों साहित्यिक एवं दार्शनिक चर्चा में डूबे हुए थे। इसके कारण वे रास्ता भूल गये। एक ऐसे गाँव में आकर जहाँ एक बूढ़ी औरत अपने खेत की देखभाल कर रही थी, वे रुके और उससे पूछा,
“सम्मानीय माता जी, यह रास्ता कहाँ जाता है ?”
“यह रास्ता कहीं नहीं जाता, यह तो यहीं रहता है। केवल वे व्यक्ति जो इस पर चलते हैं वे कहीं जाते हैं। अतः मुझे बताओ कि तुम कौन हो ?”
“हम लोग यात्री है। उन्होंने उत्तर दिया।
वह बूढ़ी औरत मुस्कुराई। “यात्री तो मात्र दो हैं-सूर्य और चन्द्रमा। तुम मुझे सच-सच बताओ कि तुम कौन हो ?”
“बहन, हम लोग अतिथि है।” विद्वान पुरुष ने कहा।
“अतिथि तो मात्र दो हैं-एक धन और दूसरा यौवन। अब मुझे बताओ कि तुम इनमें से कौन हो ?” बूढ़ी औरत ने कहा।
“हम राजा हैं।” राजा भोज ने कहा।
“राजा तो मात्र दो हैं एक इन्द्र (देवताओं के राजा) और दूसरे यम (मृत्यु के देवता) अब मुझे बताओं कि तुम इनमें से कौन हो ?” बूढ़ी औरत ने पूछ।
अब राजा भोज तथा उनके साथी विस्मित थे। “हम…….. हम दोनों महान् योग्यता वाले व्यक्ति हैं।” उन्होंने कहा।
“महान् योग्यता वाले तो केवल दो हैं-एक पृथ्वी और दूसरी स्त्री, किन्तु तुम तो इनमें से नहीं दिखाई देते।
अब बोलो तुम कौन हो ?”
“बहन हम साधु हैं।” राजा भोज ने निराश होते हुए कहा।
“तुम मुझे साधु के समान तो दिखाई नहीं देते।” उस औरत ने असहमति से सिर हिलाते हुए कहा।
“फिर भी साधु तो केवल दो हैं।” उसने कहा, एक विनम्रता और दूसरा सन्तोष।” अब विद्वान व्यक्ति ने साहस बटोरा और कहा,” बहन, हम लोग परदेसी है।” किन्तु उस औरत को यह कुछ मंजूर नहीं था, “परदेसी तो तुम नहीं हो।” उसने कहा।
केवल आत्मा और पेड़ की पत्ती ही परदेसी हो सकती हैं। अब बताओ कि तुम कौन हो ?”
उस औरत के विस्मयकारी उत्तरों के सामने राजा और उनके विद्वान साथी को शब्द मिलना कठिन हो रहा था। ____ अब कुछ कहने की साथी विद्वान की बारी थी, ” बहन हम चतुर हैं।” उन्होंने कहा।
“इस संसार में चतुर तो केवल दो चीजें है अन्न और पानी। तुम इनमें से कौन हो?” बूढ़ी औरत ने जवाबी प्रहार किया।
इस पर राजा भोज और उनके विद्वान अतिथि ने कराहते हुए कहा, हम लोग हार गये।”
“इस संसार में केवल दो हारे हुए व्यक्ति हैं।” उस औरत ने कहा, “एक कर्ज के बोझ से दबा हुआ व्यक्ति और दूसरा सद्गुण रहित लड़की का पिता। तुम मुझे ईमानदारी से क्यों नहीं बताते कि तुम कौन हो ?”
निराश होकर अपने हाथ उठाते हुए राजा भोज तथा विद्वान व्यक्ति ने कहा, “हम क्या कहें बहन ? सच्चाई तो यह है कि हम कुछ नहीं जानते। तुम हो जो सब जानती हो।” __इन शब्दों पर उस बूढ़ी औरत के चेहरे पर मुस्कान बिखर गई और वह गम्भीर हो गई। उसने शान्त तथा सौम्य स्वर में कहा, “तुम दोनों को अपनी दौलत तथा ज्ञान का दम्भ हो गया था। मुझे शुरू से ही पता था कि तुम राजा भोज हो और यह तुम्हारे विन अतिथि। तुम्हें वापस पृथ्वी पर लाने का यह मेरा अपना तरीका था। इस रास्ते पर जाओ।” उसने इशारा किया, “यह वापस घर जाने का मार्ग है।”
राजा भोज और उनके विद्वान अतिथि उस बढ़ी औरत के समाने नतमस्तक हो गये जिसने उनकी कमियाँ उजागर करके उनकी आँखें खोल दी थीं। घर वापस जाते समय उनके पास सोचने को बहुत कुछ था। – शारदा बेल

The Limits of Knowledge Word Meanings of Difficult Words

MP Board Class 11th English The Spectrum Solutions Chapter 2 The Limits of Knowledge 2

We hope the data given here will benefit you to the fullest extent at the time of preparation. For better understanding of English subject this MP Board Solutions for Class 11th English Chapter 2 The Limits of Knowledge Questions and Answers PDF is the best resource. Download & ace up your preparation. Keep in touch with us and get the latest information on MP Board Textbook Solutions PDF.

Leave a Comment