MP Board Class 6th Hindi Sugam Bharti Solutions Chapter 3 भाई-बहन

In this article, we will share MP Board Class 6th Hindi Solutions Chapter 3 भाई-बहन Pdf, These solutions are solved subject experts from the latest edition books.

MP Board Class 6th Hindi Sugam Bharti Solutions Chapter 3 भाई-बहन

MP Board Class 6th Hindi Sugam Bharti Chapter 3 प्रश्न-अभ्यास

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

Bhai Bahan Kahani Ka Saransh MP Board Class 6th प्रश्न 1.
(क) सही जोड़ी बनाइए
1. पंखहीन – (क) कपड़ा
2. मंगल – (ख) गला
3. रेशमी – (ग) पक्षी
4. जग से – (घ) मन
उत्तर
1. (ग), 2. (घ), 3. (क), 4. (ख)

Bhai Bahan Kahani Ka Saransh Likhiye MP Board Class 6th प्रश्न (ख)
दिए गए शब्दों में से उपयुक्त शब्द घुनकर रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए.
1. न जाने कितनी…स्मृतियाँ उसके अंतःस्थल में उठकर बिंधी सी जा रही थीं। (मीठी/कड़ीवी)
2. भाई-बहन सदा……..नहीं रहते। (अलग-अलग/साथ-साथ)
3. करीब आधे घण्टे के बाद किंचित…..सा मुख लिए निर्मला कमल को साथ लेकर स्कूल चली गई। (उदास/पुलकित)
4. रह-रहकर एक…….अनुभूति उसके मन में होने लगी। (नूतन/पुरातन)
5. क्रमशः दर्शकों के झुण्ड भी…….होने लगे। (छिन्न-भिन्न इकट्वे)
उत्तर
1. मीठी
2. साथ-साथ
3. उदास
4. नूतन
5. छिन्न-भिन्न।

MP Board Class 6th Hindi Sugam Bharti Chapter 3 अति लघु उत्तरीय प्रश्न

Class 6 Hindi Chapter 3 Question Answer प्रश्न 2.
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक-एक वाक्य में दीजिए

(क) सावित्री के अंतःस्थल में किसकी यादें बसी धी?
उत्तर
सावित्री के अंतःस्थल में अपने भाई की यादें बसीं थीं।

(ख) सावित्री को अपनी बक-बक सारहीन सी क्यों लगी?
उत्तर
क्योंकि सावित्री का भाई उसके पास नहीं था।

(ग) रोते-रोते निर्मला के चेहरे का रंग सफेद क्यों पड़ गया?
उत्तर
क्योंकि निर्मला का भाई भीड़ में खो गया था। वह कहीं नहीं दिख रहा था।

(घ) माँ के दिल से भी अधिक कमल की चिंता और किसको थी?
उत्तर
माँ के दिल से भी अधिक कमल की चिंता निर्मला को थी।

(ङ) माँ की झिड़कियों का बालिका पर क्या प्रभाव पड़ा?
उत्तर
बालिका का नन्हा मस्तिष्क उलझन में पड़ गया।

MP Board Class 6th Hindi Sugam Bharti Chapter 3 लघु उत्तरीय प्रश्न

Bhai Bahan Ki Hindi MP Board Class 6th प्रश्न 3.
निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर तीन-से-पाँच वाक्यों में दीजिए

(क) कमल के आँखों से ओझल होते ही निर्मला की मनोदशा का वर्णन कीजिए।
उत्तर
कमल के आँखों से ओझल होते ही निर्मला बेचैन हो उठी। उसके होश-हवास एकाएक गुम हो गए। वह व्याकुल सी हो एक कमरे से दूसरे में और फिर बरामदे में पंखहीन पक्षी की भांति फड़फड़ाती हुई दौड़ने लगी। उसकी आँखों के आगे अंधेरा-सा छा गया। सब कुछ सुनसान-सा प्रतीत होने लगा।

(ख) ‘जब इन्हीं दुर्लभ सूरतों को देखने के लिए तरसोगी।’ कहकर सावित्री क्या कहना चाहती है?
उत्तर
सावित्री कहना चाहती है कि भाई-बहन सदा साथ नहीं रहते। एक समय आता है जब बहन को भाई का साथ छोड़ना पड़ता है। लेकिन जब तक भाई-बहन साथ-साथ रहते हैं, उनके बीच नोंक-झोंक, होती रहती है। सावित्री निर्मला को बताना चाहती है कि आज वह अपने छोटे भाई से लड़ाई कर रही है किंतु एक समय आएगा जब वह भाई से काफी दूर होगी और उसे देखने को तरसेगी।

(ग) भाई को भेजे जाने वाले उपहार के साथ सावित्री की स्मृतियाँ किस प्रकार जुड़ी हुई हैं?
उत्तर
भाई को भेजे जाने वाले उपहार के साथ सावित्री की मीठी स्मृतियाँ जुड़ी हुई हैं। अनेक वन, पर्वत, नदी, नाले और मैदान के पास दूर से एक मुखाकृति बार-बार नेत्रों के सामने आकर उसके रोम-रोम को पुलकित कर रही है। ऐसा लगता है कि सामने दीवार पर लटकी हुई उसके भाई की तस्वीर हँसकर बोल उठेगी।

(घ) निर्मला के फूट-फूट कर रोने का कारण स्पष्ट कीजिए।
उत्तर
निर्मला अपने भाई कमल को लेकर मुहर्रम का जुलूस देखने गई है। भीड़ काफी है। यों तो वह कमल का हाथ सावधानी से पकड़ें हुई थी लेकिन पता नहीं कब उसकी पकड़ ढीली पड़ गई और कमल भीड़ में खो गया। जैसे ही निर्मला को एहसास हुआ कि उसका भाई खो गया है, वह फूट-फूटकर रोने लगी।

(ङ) कमल और निर्मला का आपस में लड़ना और फिर एक-दूसरे से मिलने को आतुर होना वस्तुतः आत्मीय स्नेह का ही प्रमाण है। इस कथन की पुष्टि कीजिए।
उत्तर
भाई-बहन का आपस में लड़ना और फिर एक हो जाना जग जाहिर है। निर्मला कमल से चार साल बड़ी है। वह कमल पर रौब जमाती है। उसे बात-बात पर डांटती है। अपना कोई सामान उसे छूने नहीं देती है। कमल बेचारा परेशान रहता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि दोनों के बीच प्रेम नहीं है। दरअसल दोनों एक-दूसरे को हृदय से चाहते हैं। कमल जब खो जाता है तो निर्मला बेचैन हो उठती है। वह फूट-फूटकर रोती है। इधर कमल भी अपनी दीदी से मिलने के लिए आतुर है।

भाषा की बात

Mp Board Solution Class 6 Hindi प्रश्न 4.
निम्नलिखित शब्दों का सही उच्चारण कीजिए
श्वेत, स्मृतियाँ, मुखाकृति, प्रेमाश्रु, झिड़कियाँ, प्रस्फुटित, चित्ताकर्षक
उत्तर
स्वयं करें।

Kavita Bhai Hindi Part 3 MP Board Class 6th प्रश्न 5.
Bhai Bahan Kahani Ka Saransh MP Board Class 6th
उत्तर
अन्तस्थल, स्कूल, झुंझलाकर, तस्वीर

Bhai Bahan Ki Kahani MP Board Class 6th प्रश्न 6.
निम्नलिखित मुहावरों का वाक्य में प्रयोग कीजिए
रोम-रोम पुलकित होना, होश-हवास गुम होना, चेहरे का रंग सफेद पड़ना, फूट-फूट कर रोना।
उत्तर
रोम-रोम पुलकित होना-भाई से मिलते ही रमा के रोम-रोम पुलकित हो उठे। होश-हवास गुम होना-जैसे ही तेंदुआ गांव में घुसा, लोगों के होश-हवास गुम हो गए।
चेहरे का रंग सफेद पड़ना-परीक्षा में फेल होने की खबर सुनते ही रमण के चेहरे का रंग सफेद पड़ गया। फूट-फूटकर रोना-बच्चे को फूट-फूटकर रोते देखकर मैं विचलित हो उठी।

Class 6 Hindi Chapter 3 प्रश्न 7.
दिए गए शब्दों में से हिंदी (तत्सम्, तद्भव) और आगत (अंग्रेजी तथा उद्र) शब्द पृथक पृथकू लिखिए
बॉक्स, आश्वासन, चीज़, बाथरूम, बैग, मुस्कुराना, ग्रामोफोन, खूब, मामला, शरारत, स्कूली, हल्की, आफत,
शक्ल-सूरज, जुलूस, दरवाज़ा, गरीब, होश-हवास, सम्मोहन, नेपत्थ्य, सुनसान, जरूर, नूतन
उत्तर
हिन्दी (तत्सम, तद्भव)-आश्वासन, चीज़, मुस्कुराना, मामला, शरारत, हल्की, शक्ल-सूरत, जुलूस, दरवाज़ा, गरीब, होश-हवास, सम्मोहन, नेपथ्य, सुनसान, नूतन।
आगत (अंग्रेजी तथा उर्दू)-बॉक्स, बाथरूम, बैग, ग्रामोफोन, खूब, स्कूल, आफत, जरूर।

प्रश्न 8.
निम्नलिखित वाक्यों को पढ़कर व्यक्तिवाचक, जातिवाचक व भाववाचक संज्ञा को छांटकर लिखिए
(क) तितली के एक पंख की कढ़ाई की जा चुकी थी।
(ख) उदास-सा मुख लिए निर्मला स्कूल चली गई।
(ग) एकाएक सावित्री के चेहरे पर हँसी आ गई।
(घ) पाँच बजे मोहर्रम का जुलूस निकलने वाला था।
(ङ) सावित्री ने कॉपी रखने के लिए कुर्सी की सफाई की।
उत्तर
व्यक्तिवाचक संज्ञा-निर्मला, सावित्री, स्कूल,
जातिवाचक संज्ञा-तितली, कॉपी, कुर्सी, पंख,
भाववाचक संज्ञा-कढ़ाई, हँसी, सफाई

भाई-बहन प्रसंग सहित व्याख्या

1. न जाने कितनी ……………………. कर दिया।

शब्दार्थ-मंगल-शुभ। कामना=इच्छा। अंतःस्थल= हृदय। नेत्र आँख। सम्मुख=सामने। पुलकित= खुश। विवश=मजबूर।

प्रसंग-प्रस्तुत पंक्तियाँ हमारी पाठ्य-पुस्तक सुगम भारती-6 में संकलित पाठ ‘भई-बहन’ से उद्धृत हैं। इसकी लेखिका हैं ‘सत्यवती मलिक’।

व्याख्या- इन पंक्तियों में भाई-बहन के प्यार को उजागर किया गया है। सावित्री अपने भाई की याद में खोयी है। उसका जन्मदिन काफी करीब है। सावित्री उसके जन्मदिन पर उपहार भेजने की तैयारी में लगी है। उसने एक श्वेत कपड़े पर तितली की सुंदर आकृति खींची है। उपहार तैयार करने के दौरान वह कई मीठी यादों में खो जाती है। उसका भाई भले ही उससे दूर है, किंतु वह उसकी मुखाकृति बार-बार नेत्रों के सामने आकर उसे हर्षित कर दे रही है। कभी-कभी तो उसे ऐसा लगता है, उसके भाई नरेन्द्र की तस्वीर तुरंत हंस उठेगी। सावित्री भावविभोर हो जाती है। उसकी आँखें भर आती हैं। वह चाहती है उसका नरेन्द्र उसके सामने आ जाता। अचानक बेटे कमल के रोने की आवाज कानों में पड़ते ही वह वहाँ से उठ जाती है। .

2. नीचे की सड़क …. भी नहीं है!

शब्दार्थ-भांति-भांति-तरह-तरह । बाल=जगत बच्चों का संसार । सम्मोहन मन को =आकर्षित करना । नेपथ्यपीछे से। चित्ताकर्षक= मनमोहक।

प्रसंग-पूर्ववत्

व्याख्या- निर्मला अपने भाई को लेकर मुहर्रम का जुलूस देखने आयी है। जुलूस देखने के लिए अच्छी-खासी भीड़ उमड़ पड़ी है। निर्मला के भाई की उंगली छुट गई और वह भीड़ में खो गया। जैसे ही निर्मला को एहसास हुआ कि उसका भाई उससे बिछड़ गया है, वह एकदम से बेचैन हो गई। वह चीख उठी। जिस जुलूस को देखने यह इतनी उत्साह से आयी थी, अब वह सारा उत्साह खत्म हो गया। दुनिया फीकी नजर आने लगी। रंग-बिरंगे खिलौने, गुब्बारे, तरह-तरह के सुर निकालते हुए बाजे सब कुछ निर्मला के लिए अर्थहीन हो गया। वह भीड़ चीरती हुई तुरंत वहाँ से निकल पड़ी भाई को खोजने के लिए। वह सबसे पहले सीता के घर गई, लेकिन कमल वहाँ नहीं मिला। निर्मला रोती जा रही थी। रोते-रोते उसकी आँखें सूज गईं, चेहरा सफेद पड़ गया। अंत में वह माँ के पास गई और उससे सारा हाल बतायी माँ सन्न रह गई।

विशेष

  • भाषा और शैली बोधगम्य है।
  • शब्दों का प्रयोग सहज जान पड़ता है।

Leave a Comment